बिहार के सबसे बड़े इस्कॉन मंदिर को श्रद्धालुओं के लिए खोला गया, जानें मंदिर की खासियत

खबरें बिहार की जानकारी

राजधानी पटना के बुद्धमार्ग स्थित इस्कॉन मंदिर मंगलवार से श्रद्धालुओं के दर्शन के लिए खोल दिया गया। अक्षय तृतीया के मौके पर श्रीराधा बांके बिहारी मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा के बाद मूर्तियां स्थापित की गईं। इस मौके पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया। मंदिर के गर्भ गृह में प्राण-प्रतिष्ठा कार्यक्रम संपन्न हुआ।

इसके पहले गर्भ गृह में सुबह आठ बजे से कीर्तन शुरू हुई। सुबह 9 बजे से 11 बजे के बीच यज्ञ का आयोजन किया गया। दोपहर 12 बजे से दो बजे के बीच प्राण प्रतिष्ठा समारोह हुआ। मंदिर में राधे-बांके बिहारी, ललिता व विशाखा के साथ, राम दरबार में राम, लक्ष्मण, सीता और हनुमान के विग्रह (मूर्ति) स्थापित किए गए और गौड़नीता दरबार में चैतन्य महाप्रभु और नित्यानंद महाप्रभु के विग्रह स्थापित किये गए हैं।

दो एकड़ क्षेत्र में फैले मंदिर की ऊंचाई 108 फीट है। इसके गर्भगृह में एक साथ पांच हजार लोग बांके-बिहारी सहित अन्य विग्रहों (मूर्तियों) का दर्शन-पूजन कर सकेंगे। मथुरा और गुजरात के बाद पटना देश का तीसरा मंदिर होगा, जिसमें 84 खंभा पुरातन तकनीक का प्रयोग किया गया है। मंदिर के वास्तुकार पीयूष वी सोमपुरा हैं।

हर जिले में इस्कॉन मंदिर बनेगा : व्रजेन्द्र

पटना में इस्कॉन मंदिर का उद्घाटन संगठन के फैलाव में मील का पत्थर साबित होगा। इस्कॉन का अगला लक्ष्य बिहार के प्रत्येक जिले में इस्कॉन के छोटे मंदिरों की स्थापना करना है। संगठन अब छोटे शहरों के साथ-साथ गांवों की तरफ जाने की सोच भी रखता है। पटना इस्कॉन की देख-रेख में इन योजनाओं को अमलीजामा पहनाया जाएगा। ये बातें इस्कॉन नेशनल कम्युनिकेशन के अध्यक्ष सह इस्कॉन नई दिल्ली के उपाध्यक्ष व्रजेन्द्र नंदन दास ने कही। उन्होंने कहा कि गांवों के लिए संगठन का ग्रामीण मंत्रालय और राज्य के जनजातीय क्षेत्रों के लिए संगठन का जनजातीय मंत्रालय काम करेगा। बिहार में इस्कॉन के प्रचार-प्रसार की व्यापक संभावना है।

नौकरी करना है प्रभु की करें

व्रजेन्द्र नंदन दास ने कहा कि जब इस्कॉन में पहली बार आए थे तो मेरे गुरु ने अपने प्रवचन में कहा कि ‘जब नौकरी करना ही है तो दास का क्यों किया जाए, प्रभु की ही चाकरी क्यों नहीं करते’। उनके इस बात के बाद मैंने 13 अगस्त 1984 में इस्कॉन से नाता जोड़ा। इसके बाद पीछे मुड़कर नहीं देखा। इस्कॉन जुहू, इस्कॉन पुणे, इस्कॉन पंजाबी बाग, नेशनल कम्युनिकेशन निदेशक आदि पदों पर नियुक्त हुए। इस्कॉन जीवन जीने का नजरिया देता है। गीता के संदेशों को आम आदमी कैसे डिकोड करें, कैसे अपने जीवन में लागू करे, यह सिखाता है। लोगों को भगवद्गीता पढ़ना चाहिए। आज इस्कॉन से बड़ी संख्या में छात्र और गृहस्थ जुड़ रहे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.