बिहार के मुंडेश्वरी धाम में नवरात्रि के छठे दिन उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब, 50 हजार से ज्यादा भक्तों ने की पूजा

आस्था

बिहार के भभुआ में स्थित प्रसिद्ध मां मुंडेश्वरी धाम में नवरात्रि के छठे दिन श्रद्धा का सैलाब उमड़ पड़ा। भक्तों ने माता रानी के कात्यायनी स्वरूप का दर्शन किया। शनिवार अलसुबह से ही मंदिर में भक्तों की भीड़ लगना शुरू हो गई। मंदिर परिसर में दर्शन-पूजन के लिए लंबी कतार लग गई। भीड़ को देखते हुए जिला प्रशासन ने वीआईपी दर्शन पर रोक लगा दी है। शनिवार को 50 हजार से ज्यादा भक्तों ने मां मुंडेश्वरी की पूजा की।

मंदिर में प्रधान पुजारी उमेश प्रसाद मिश्र, सहायक पुजारी बिहारी उपाध्याय, उपेंद्र तिवारी, राधेश्याम झा आदि मां मुंडेश्वरी का दर्शन-पूजन कराने में व्यस्त दिखे। मुंडेश्वरी धार्मिक न्यास समिति के सचिव अशोक कुमार सिंह व अकाउंटेंट गोपाल कृष्ण अपनी टीम के साथ श्रद्धालुओं को बारी-बारी से मंदिर के गर्भगृह में भेजने की व्यवस्था में जुटे रहे।

मां के जयकारा व घंट की आवाज के बीच श्रद्धालुओं का हुजूम बढ़ता चला गया। अलसुबह से ही श्रद्धा का सैलाब उमड़ना शुरू हो गया। भीड़ को संभालने और भक्तों को किसी तरह की परेशानी न हो इसको लेकर समिति के सचिव हर एक चीज पर पैनी नजर जमाए हुए हैं। दंडाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी, महिला-पुरुष पुलिस बल, स्काउट एंड गाइड के स्वयंसेवक, समिति के कर्मी व वोलेंटियर, निजी गार्ड भी श्रद्धालुओं की सुविधा का ख्याल रख रहे हैं। बीच-बीच में वरीय प्रशासनिक व पुलिस अधिकारी सुरक्षा एवं विध-व्यवस्था का जायजा लेने पहुंच रहे थे।

धाम परिसर में फल, फूल, माला, प्रसाद की दुकानों पर भी श्रद्धालुओं की काफी भीड़ दिख रही है। मंदिर परिसर में उक्त चीजों के अलावा खान-पान की भी दुकानें सजी हैं। धाम परिसर में विभिन्न तरह की करीब 160 दुकानें लगी हैं। इसमें फूल-माला, पूजन सामग्री की बिक्री के लिए 137, नाश्ता की पांच व भोजन के लिए आठ दुकानें खोली गई हैं। शृंगार की दस दुकानें हैं। सचिव अशोक कुमार सिंह ने बताया कि समिति की ओर से नाश्ता और भोजन की दुकानों पर स्वच्छता एवं गुणवत्ता का खास ख्याल रखने का निर्देश दुकानदारों को दिया गया है। बासी तथा प्याज व लहसून की खाद्य सामग्री बेचने पर पूरी तरह रोक है।

कतार में खड़े होकर बारी का कर रहे इंतजार

मां के दर्शन-पूजन के लिए अलसुबह से ही महिला-पुरुष श्रद्धालुओं की लंबी कतार लग गई। मंदिर का द्वार खुलते ही बारी-बारी से श्रद्धालु गर्भगृह में प्रवेश करने लगे, जहां मां मुंडेश्वरी के अलावा चतर्मुखी भोले शंकर की भी पूजा हो रही है। मंदिर में श्रद्धालुओं को दर्शन-पूजन कराने के लिए वहां के प्रधान पुजारी उमेश प्रसाद मिश्रा की उपस्थिति में मंदिर के सहायक पुजारी राधेश्याम झा सहित अन्य ने भक्तों के नारियल, फूल, माला, धूप बत्ती, चुनरी, प्रसाद, सिंदूर को मां के चरण से स्पर्श कर बारी-बारी से दर्शन कराने का सिलसिला शुरू हुआ।

इन स्थलों पर भी दिखी भक्तों की भीड़

श्रद्धालुओं की भीड़ से मुंडेश्वरी धाम परिसर पटा रहा। मंदिर परिसर, मंदिर के गर्भगृह, हवन कुंड, नारियल बलि स्थान पर भक्तों का काफी भीड़ नजर आई। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए गार्ड रूम के पास टेंट लगाकर बैठने की व्यवस्था की गई। कंट्रोल रूम बनाया गया है, जहां स्थानीय प्रशासन और धार्मिक न्यास समिति के लोग बैठे हैं। सुरक्षा के लिए पुलिस पदाधिकारियों के साथ जवानों की ड्यूटी लगी है। कोई सीढ़ी तो कोई सड़क मार्ग से आ-जा रहा है। दोनों पथ भक्तों की भीड़ से गुलजार हैं। हालांकि श्रद्धालु सड़क मार्ग से वाहनों से भी राह तय कर रहे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.