बिहार के इस युवा का कमाल, डिजिटल दुनिया में बदलाव लाएगा The code room! बच्चों को मिला नया मुकाम

खबरें बिहार की जानकारी

अब भागलपुर के बच्चे भी हुनरमंद बनेंगे. डिजिटल की दुनिया में भागलपुर के बच्चे भी अपना जलवा दिखाएंगे. दरअसल, भागलपुर का एक युवा छात्रों को डिजिटल की दुनिया में हुनरमंद बना रहा है. हम बात कर रहे हैं भागलपुर के युवा निशांत घोष की. निशान्त बच्चों के लिए एक नया कॉन्सेप्ट लाया है. ‘The code room कॉन्सेप्ट’ इसमें वैसे बच्चों को शिक्षा दी जाती जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं या जो अपनी राह नहीं चुन पा रहे हैं.

इसमें पढ़ने वाली छात्रा आंचल आनंद ने बताया कि हमलोग मिडिल क्लास फैमली से आते हैं. जब मैं 12th कर रही थी हमेशा से मन मे एक सवाल आता था कि इसके बाद क्या करना है. अब ग्रेजुएशन एक नॉर्मल पढ़ाई रह गयी है. इससे आपको सिर्फ एक डिग्री हासिल हो जाती है. लेकिन घर से लंबे समय तक पढ़ाई के लिए पैसे नहीं मिलते हैं. मैं सोशल मीडिया पर नई पढ़ाई व स्कोप के बारे में ढूंढने लगी. तो मुझे वेब डिजाइन के बारे में पता चला. लेकिन जब इसके बारे में सर्च करने लगी तो काफी महंगा कोर्स था. लेकिन मुझे भागलपुर में the code room के बारे में पता चला. यहां बच्चों को skil डेवलपमेंट के बारे में बताया जाता है

होती है चार अलग परीक्षाएं
यहां आकर जब पूछा तो उन्होंने बताया कि यहां हमलोग फीस नहीं लेते हैं बल्कि एक मेंटेनेंस चार्ज लेते हैं. लेकिन आपको यहां का परीक्षा पास करके आना होगा. चार अलग-अलग परीक्षा ली जाती है. इसमें पास छात्र-छात्रों को ही यहां पर पढ़ाया जाता है. इसके संचालक निशांत कुमार ने बताया कि बचपन में मुझे पढ़ने का शौक था. लेकिन मुझे कोई प्लेटफार्म नहीं मिला. लेकिन अभी बच्चे प्लेटफॉर्म के लिए नहीं भटके इसलिए ये किया जा रहा है.

अब बच्चों को नहीं जाना होगा बाहर
आपको बता दें कि ये उन बच्चों के लिए लाभदायक है. जिन्होंने ग्रेजुएशन कर लिया हैं लेकिन रोजगार नहीं मिल रहा है. वैसे लोगों के लिए ये रोजगार का साधन बन रहा है. यहां से पढ़कर बच्चे अलग-अलग राज्यों में काम कर रहे हैं. इसमें खास कर बच्चों को सिखाया जाता है कि आप अपने प्रोडक्ट की सेल कैसे कर सकते हैं. सबसे पहले आप ब्रांड कैसे बना सकते हैं. ब्रांड बनाकर आप उसे बाहर के मार्किट में सेल कैसे कर सकते हैं. ताकि आपके प्रोडक्ट को बढ़ावा मिल सके.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *