बिहार के इस अस्पताल में डॉक्टर नहीं तांत्रिक करते हैं मरीज का इलाज? वीडियो देख आप भी हो जाएंगे हैरान

खबरें बिहार की जानकारी

रोहतास जिले के सासाराम सदर अस्पताल के ट्रामा सेंटर कैंपस में शुक्रवार को झाड-फूंक कर मरीज को ठीक करने का नजारा देखने को मिला। छह साल की एक बच्ची  को सांप ने डस लिया था। बच्ची के परिजन उसे लेकर सदर अस्पताल पहुंचे। सदर अस्पताल के परिसर में ही बच्ची को ठीक करने के लिए झाड़-फूंक का सिलसिला शुरू हुआ। अस्पताल परिसर में झाड़-फूंक को देखने के लिए भीड़ लग गई।

जानकारी के अनुसार सदर अस्पताल के ट्रामा सेंटर में केनार खुर्द चेनारी के अरविंद सिंह ने छह वर्षीय बेटी अन्नया कुमारी को सर्पदंश के इलाज के लिए भर्ती कराया। ट्रामा सेंटर में भर्ती बच्ची का इलाज चल रहा था। करीब नौ बजे परिजन बच्ची को झाड़ फूंक कराने के लिए बाहर ले जाने लगे। स्वास्थ्य कर्मियों के मना करने के बाद भी परिजनों ने एक नहीं सुनी और झाड़ फूंक कराने की जिद पर अड़ गए। परिजनों के उग्र स्वभाव को देखते हुए स्वास्थ्य कर्मी मजबूर हो गए। हालांकि, पर्चे पर झाड़ फूंक के लिए बच्ची को बाहर ले जाने की बात लिखवाकर छोड़ा। ट्रामा सेंटर परिसर में फर्श पर बच्ची को लिटाकर झाड़ फूंक शुरू किया गया।

बच्ची के हाथ और सिर में जिस जगह पर सांप ने डंसा था,  उस स्थान पर कपड़ा रखकर एक व्यक्ति मुंह से कथित रूप से जहर खींचना शुरू किया। मुंह में पानी लेकर व्यक्ति डंक वाले संभावित स्थान पर बार-बार पानी डालते व जहर खींचने की क्रिया करता रहा। ट्रामा सेंटर में पुरानी परंपरा के अंधविश्वास वाली पद्धति से करीब आधे घंटे से ज्यादा समय तक आधुनिक युग में इलाज चलता रहा। इस दौरान अस्पताल प्रशासन मूकदर्शक बनी रही।

हालांकि, बाद में झाड़-फूंक वाला व्यक्ति बच्ची को ठीक होने की बात कहकर निकल गया। लेकिन, बच्ची की सेहत में कोई  सुधार नहीं हुआ। ऐसे में परिजनों ने दुबारा ट्रामा सेंटर में इलाज के लिए भर्ती करा दिया, जहां बच्ची का इलाज चल रहा हैं। परिजन अरविंद कुमार ने कहा कि आत्म संतुष्टि के लिए झाड़ फूंक कराया। साथ-साथ अस्पताल में इलाज भी करा रहे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.