1971 से लेकर अब तक का सियासी सफर, जाने बिहार के नए डिप्टी CM सुशील मोदी के बारे में

राजनीति

बिहार की सियासत के बदलते घटनाक्रम में सुशिल मोदी की भी अहम् भूमिका रही है। बिहार में 24 घंटे के भीतर सत्ता परिवर्तन होते हुए देखा गया। महागठबंधन समीकरण को पलटते हुए जनता दल यूनाइटेड (जद यू) प्रमुख व बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीजेपी का दामन एक बार फिर थाम लिया। 2014 में राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव के साथ बिहार में सरकार बनाई थी, जिसके बाद एक बार फिर नीतीश कुमार ने उनका साथ छोड़ बीजेपी के साथ सरकार बनाने का ऐतिहासिक फैसला लिया। 27 जुलाई 2017 को नीतीश कुमार ने 6वीं बार बिहार के मुख्यमंत्री पद के लिए शपथ ग्रहण किया। वहीं उप मुख्यमंत्री पद के लिए सुशील कुमार मोदी ने शपथ ग्रहण किया।

जीवन परिचय
जन्म: 5 जनवरी 1952
पिता: स्व. मोती लाल मोदी
माता: स्व रत्ना देवी
पत्नी: प्रो डॉ. जेसी सुशील मोदी, प्राचार्य, वीमेन्स ट्रेनिंग कॉलेज, पटना विश्वविद्यालय
शिक्षा: पटना साइंस कॉलेज, पटना विश्वविद्यालय से स्नातक

कॉलेज लाइफ
बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और भारतीय जनता पार्टी के नेता सुशील कुमार मोदी जितना राजनीति में सक्रिय है उतना ही सोशल मीडिया में अपनी उपस्थिति बराबर बनाये रहते हैं। छात्र जीवन से राजनीति में सक्रिय सुशील कुमार मोदी 1971 में पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ के 5 सदस्यीय कैबिनेट के सदस्य निर्वाचित हुए हैं। 1973-1977 में मोदी पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ के महामंत्री बने उसी वर्ष लालू प्रसाद यादव अध्यक्ष और रविशंकर प्रसाद संयुक्त सचिव चुने गये थे।

जेल भी जा चुके हैं सुशील मोदी
मोदी एवं आंदोलन सुशील कुमार मोदी छात्र जीवन से एक आंदोलनकारी छात्र रहे हैं। 1972 में मोदी पहली बार छात्र आंदोलन के दौरान 5 दिन जेल में रहे। जेपी आंदोलन एवं आपातकाल के दौरान 1974 में उनको 5 बार मीसा में गिरफ्तार किया गया। आपातकाल के 19 महीने की जेल यात्रा को मिलाकार मोदी 24 महीने जेल में रहे।

भाजपा में दायित्व
भारतीय जनता पार्टी में सुशील कुमार मोदी को कई दायित्व दिये गये। 1995 में मोदी भाजपा विधानमंडल के मुख्य सचेतक निर्वाचित हुए और उसी वर्ष उनको भाजपा ने राष्ट्रीय मंत्री भी बनाया। वर्ष 2004 में मोदी भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बने और 2005 में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बने। बिहार सरकार में मोदी वर्ष 2000 में संसदीय कार्य मंत्री बने और 2005 में लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा देकर बिहार विधान परिषद के सदस्य बने। 2012 में मोदी दूसरी बार बिहार विधानसभा के सदस्य बने। 2005 में मोदी बिहार के उप मुख्यमंत्री सह वित्त मंत्री बने।

Leave a Reply

Your email address will not be published.