पटना: एक बार फिर बिहार के लाल ने अपनी प्रतिभा से परचम लहरा दिया है। बताया जा रहा है कि गया के अंशुमन ने वह कारनामा कर दिखाया जिसे बड़े बड़े वैज्ञानिक नहीं कर पाए। जानकारी अनुसार अंशुमन के नेतृत्व में आईआईटी, मुम्बई की टीम ने एक स्वचालित पनडुब्बी का निर्माण कर इतिहास रच डाला। बताया जा रहा है कि अमेरिका के सैनिडियागो में आयोजित इस प्रतियोगिता में भारत सहित कुल 11 देश ने लिया था भाग। अन्य देशों की सूची में अमेरिका, कनाडा, जापान, चीन, रूस आदि हैं शामिल।

प्रतियोगिता के नियम अनुसार एक ऐसे पनडुब्बी का निर्माण करना था जो समुद्री वातावरण में विभिन्न रंगों के गुब्बारों की पहचान कर उसे छू सके। साथ ही कुछ सामान को उठाकर उसे एक जगह से दूसरे जगह ले जा सके। उल्लेखनीय हैं कि भारतीय छात्र अंशुमन की ओर से निर्मित पनडुब्बी मत्स्य ने इन सभी शर्तो को पूर्ण करते हुए प्रतियोगिता में जीत दर्ज की।

गरीब परिवार से है अंशुमन -बिहार के गया का रहने वाला अंशुमन काफी गरीब परिवार से आता है। -अंशुमन के पिता सुनील कुमार चलाते हैं गया में पान दुकान। -पिता के अनुसार अंशुमन बचपन से ही मेधावी था। -भारत को यांत्रिकीकरण के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाना चाहता है अंशुमन। -अंशुमन का पनडुब्बी भविष्य में कर सकता है भारतीय नेवी की मद।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here