Big Breaking: जदयू को झटका, उदय नारायण चौधरी ने छोड़ी पार्टी, बोले – अब कोई वास्ता नहीं, दलितों पर हो रहा है अत्याचार

राजनीति

पटना: बड़ी खबर है बिहार की सियासी गरियारे से. एक्स विधानसभा अध्यक्ष और जदयू के बड़े नेता उदय नारायण चौधरी ने जदयू को अलविदा कह दिया है. पटना में आज बुधवार को साफ-साफ कह दिया कि आज से उनका जदयू से कोई वास्ता नहीं. इस दौरान उदय नारायण ने जदयू पर आरोप लगाया कि अब पार्टी में दलितों के साथ सही व्यवहार नहीं किया जा रहा है. यही वजह कि उदय नारायण चौधरी ने इस्तीफा दे दिया है.

धनकुबेरों को बढ़ा रही है जदयू – उदय

उन्होंने कहा कि बिहार सरकार धनकुबेरों को आगे बढ़ाने का काम कर रही है. दलितों के साथ अत्यचार किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि मैने 20 साल तक पार्टी को सींचने का काम किया. लेकिन मेरा साथ ऐसा व्यवहार हुआ. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मैं अब जदयू में नहीं हूं. लेकिन आगे का रास्ता वक्त बताएगा. उन्होंने कहा कि जदयू में भगदड़ की स्थिति पैदा हो गई है. कई लोग मेरे संपर्क में हैं.

जा सकते हैं राजद में !

इसके साथ ही उन्होंने राजद में जाने के सवाल पर कहा कि, अब मैं जदयू और बीजेपी के कब्जे से बाहर हूं. रास्ता खुला है. मैं उन सबके साथ हूं जो इनके खिलाफ हैं. जाहिर है कि उदय नारायण चौधरी के इस बयान ने बड़ा बवाल खड़ा कर दिया है. कयास लगाए जा रहे हैं कि अब जल्द ही वो लालू प्रसाद की पार्टी राजद में देखने को मिलेंगे.

आपको बता दें कि उदय नारायण चौधरी लंबे समय से जदयू में रहते हुए पार्टी के कामों का विरोध कर रहे थे. कई बार उन्होंने पार्टी के खिलाफ बोलने का काम किया. इतना ही नहीं कई बार लालू प्रसाद के सपोर्ट में देखने को मिले. पीएम मोदी तक को कोसते रहे. अब उन्होंने इन सब के बीच जदयू से अपना रिश्ता तोड़ लिया है.

गौरतलब हो कि उदय नारायण चौधरी के पार्टी छोड़ने पर फिलहाल जदयू की ओर से कोई बयान नहीं आया है, लेकिन जिस तरह से उनका विरोध देखने को मिल रहा है. माना जा रहा है कि जदयू उनके पार्टी छोड़ने को काफी सीरियसली लेने वाला है. इससे पहले हम के मुखिया जीतनराम मांझी भी एनडीए का साथ छोड़ महागठबंधन में सामिल हुए थे. अब उदय नारायण चौधरी के इस बड़े फैसले ने पॉलिटिकल कॉरिडोर में हलचल बढ़ा दी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.