भारत में आख‍िर क्‍यों नहीं बढ़ रहे कोरोना के मामले, टॉप हेल्‍थ एक्‍सपर्ट ने किया खुलासा

जानकारी राष्ट्रीय खबरें

भारत में लगातार कोरोना वायरस के मामलों में कमी देखने को मिल रही है। देश में बुधवार को लगातार तीसरे दिन संक्रमण से किसी की भी मौत नहीं हुई। इस दौरान संक्रमण के सिर्फ 152 मामले दर्ज किए गए। विशेषज्ञों का मानना है कि भारत में हाइब्रिड टीकाकरण के कारण इसके मामलों में बढ़ोतरी नहीं दर्ज की जा रही है। COVID-19 वर्किंग ग्रुप NTAGI के अध्यक्ष एनके अरोड़ा ने बुधवार को कहा कि दक्षिण एशियाई देशों में कोरोना संक्रमण के मामलों में लगातार वृद्धि दर्ज की जा रही है। हालांकि हाइब्रिड टीकाकरण होने के कारण भारत कोरोना संक्रमण से प्रभावित नहीं हो पा रहा है। डाक्टर अरोड़ा ने इस दौरान चेताया कि भारत को अब भी सतर्क रहने की जरूरत है।

अभी भी सावधानी बरतने की जरूरत

डाक्टर एन के अरोड़ा ने समाचार एजेंसी से बात करते हुए कहा, ‘भारत में कोरोना संक्रमण के मामलों में अब बढ़ोतरी नहीं दर्ज की जा रही है। हालांकि अभी भी सतर्क रहने की जरूरत है।’ उन्होंने आगे कहा कि हमें INSACOG के हिस्से के रूप में अनुवांशिक निगरानी (Genetic Surveillance) की गुणवत्ता पर पूरी निगरानी रखने की आवश्यकता है।

लगातार दर्ज की जा रही है कमी

उन्होंने कहा, ‘हम लगातार तीन साल से कोरोना महामारी पर चर्चा कर रहे हैं। हालांकि पिछले तीन माह के दौरान इसके मामलों में लगातार कमी दर्ज की गई है और प्रत्येक दिन इसके मामले करीब 500-600 से कम आ रहे हैं।’ उन्होंने कहा कि प्रत्येक दिन इसके 2,00,000 परीक्षण किए जा रहे हैं और हर दिन इससे पांच से दस लोगों की मौत हो रही है और कभी-कभी इससे एक भी मरीज की मौत नहीं हो रही है।

कई देशों में हो रही है कोरोना के मामलों में बढ़ोतरी

डाक्टर अरोड़ा ने आगे कहा कि दक्षिण एशियाई देशों में इसके मामलों में तेजी से बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। हालांकि भारत में हुए हाइब्रिड टीकाकरण के कारण मामलों की संख्या लगातार कमी हो रही है। उन्होंने कहा, ‘कई दक्षिण एशियाई देशों के साथ-साथ चीन, जापान और आस्ट्रेलिया में इसके मामलों में बढ़ोतरी दर्ज की जा रही है। हालांकि हमारी 97 प्रतिशत वयस्क आबादी को वैक्सीन की दो खुराकें मिल चुकी हैं। हम में से अधिक लोगों को प्राकृतिक संक्रमण हुआ है। इसलिए यह भी एक हाइब्रिड टीकाकरण है और हम इसके कोई भी गंभीर परिणाम नहीं देख रहे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.