भागलपुर की संध्या 61 परिवार के 135 सूप की करेंगी पूजा, लोगों की आस्था- पूरी होती है हर मनोकामना

आस्था प्रेरणादायक

छठ पूजा नजदीक आते ही मिश्रा टोली, खंजरपुर में चहल-पहल बढ़ गई है। आठ नवंबर को नहाय खाय के साथ चार दिवसीय छठ पूजा की शुरुआत हो जाएगी। खंजरपुर में 59 वर्षीय संध्या मिश्रा इस बार 61 परिवार के 135 सूप की पूजा करेंगी। पिछले बार उन्होंने 62 परिवार के 128 सूप की पूजा की थी।

उनसे सूप की पूजा कराने के लिए नागपुर, रांची के अलावा स्थानीय कई परिवार व परिचित भी आते हैं। व्रती बड़ी खंजरपुर स्थित दुर्गास्थान के पास बनाये पोखर में भगवान भाष्कर को अर्घ्य देंगी। व्रती संध्या मिश्रा ने बताया कि पहली बार 1989 में 21 सूप से छठ पूजा की शुरुआत की थी। तब उनके ससुर वीरेंद्र किशोर मिश्रा ने पूजा करने के लिए इस पोखर का निर्माण कराया था। इसके बाद कई लोग उनसे सूप कराने लगे।

 

पूर्व में वर्ष 2018 में 135  सूप की पूजा की गयी थी। उन्होंने बताया कि इस बार उनका खुद का सूप मात्र 32 है। बाकी रिश्तेदारों व परिचितों का ही है। आस्था के महापर्व में जिनका भी सूप होता है। सभी लोग मदद करते हैं। इसीलिए उन्हें कभी कोई परेशानी नहीं हुई है।  तिलकामांझी के प्रणव दास ने बताया कि उनके सूप की भी पूजा 1989 से व्रती संध्या मिश्रा के द्वारा ही किया जाता है। हर साल दो सूप की पूजा होती है। छठ मां की कृपा से उनकी हर मनोकामनाएं पूरी हो गयी है। उनके यहां जिन्होंने भी सूप कराया उनकी हर मनोकामनाएं पूरी होती है। इसीलिए हर कोई उनसे सूप कराना चाहता है। इस कारण लगातार सूपों की संख्या बढ़ती चली गयी।  संध्या मिश्रा के पति विनय मिश्रा ने बताया कि बढ़ती उम्र के साथ भी उन्हे जिस किसी ने सूप की पूजा करने को कहा,वह मना नहीं कर सकीं। पर्व में सभी परिवार का सहयोग रहता है। 

आठ को नहाय-खाय

जगन्नाथ मंदिर के पंडित सौरभ कुमार मिश्रा ने बताया कि आस्था का महापर्व छठ पूजा आठ नवंबर को नहाय-खाय के साथ शुरू होगा। खरना नौ नवंबर को है। सायंकालीन अर्घ्य दस व षष्ठी तिथि प्रात:कालीन अर्घ्य 11 नवंबर को होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.