भागलपुर ट्रिपल आईटी के छात्रों का कमाल, तैयार किया स्मार्ट हाउस, चोर के आने पर बजेगा अलार्म, ये सुविधाएं भी मिलेंग

खबरें बिहार की प्रेरणादायक

घर में होने वाली चोरी की शिकायत को दूर करने और सुरक्षा की शत-प्रतिशत गारंटी मुहैया कराने के लिए ट्रिपल आईटी के छात्रों ने स्मार्ट हाउस तैयार किया है। इसमें रखे हर सामान पर घर के मालिक की नजर होगी। यह एक निश्चित पासवर्ड से खुलेगा और बंद होगा। नेट के जरिए घर के सभी सामान घर के मालिक के मोबाइल से कनेक्ट होगा। इसे आप विदेश में रहकर भी अपने मोबाइल से देख सकते हैं। घर में रखे सामान को लॉक और अनलॉक भी कर सकते हैं।

घर में होने वाली चोरी की शिकायत को दूर करने और सुरक्षा की शत-प्रतिशत गारंटी मुहैया कराने के लिए ट्रिपल आईटी के छात्रों ने स्मार्ट हाउस तैयार किया है। इसमें रखे हर सामान पर घर के मालिक की नजर होगी। यह एक निश्चित पासवर्ड से खुलेगा और बंद होगा। नेट के जरिए घर के सभी सामान घर के मालिक के मोबाइल से कनेक्ट होगा। इसे आप विदेश में रहकर भी अपने मोबाइल से देख सकते हैं। घर में रखे सामान को लॉक और अनलॉक भी कर सकते हैं।

घर में होने वाली चोरी की शिकायत को दूर करने और सुरक्षा की शत-प्रतिशत गारंटी मुहैया कराने के लिए ट्रिपल आईटी के छात्रों ने स्मार्ट हाउस तैयार किया है। इसमें रखे हर सामान पर घर के मालिक की नजर होगी। यह एक निश्चित पासवर्ड से खुलेगा और बंद होगा। नेट के जरिए घर के सभी सामान घर के मालिक के मोबाइल से कनेक्ट होगा। इसे आप विदेश में रहकर भी अपने मोबाइल से देख सकते हैं। घर में रखे सामान को लॉक और अनलॉक भी कर सकते हैं।

 

बीते दिनों ट्रिपल आईटी में आयोजित हैकाथॉन में छात्रों द्वारा तैयार मॉडल को देश स्तर पर काफी सराहा गया है। प्रथम तीन में कंप्यूटर साइंस एंड इंजीनियरिंग विभाग के छात्रों की टीम सेवियर और ऑटोमेट्रांस पहले और तीसरे स्थान पर भी रहीं। हैकाथॉन में जज की भूमिका निभा रहे सहायक प्राध्यापक प्रो. संदीप राज ने बताया कि इन छात्रों द्वारा तैयार मॉडल ने यह साबित किया है कि आने वाले दिनों में इस तरह के घर की भूमिका बढ़ेगी, तब जबकि चोरी की घटनाएं रोज बढ़ रही हैं। उन्होंने कहा कि इस मॉडल पर आगे संस्थान के शिक्षकों द्वारा भी काम किया जाएगा। साथ ही विभिन्न आईआईटी में आयोजित प्रतियोगिता में भी इसे भेजा जाएगा।

इमेज प्रोसेसिंग और सेंसर से होगा काम 

छात्रों द्वारा तैयार मॉडल में दिखाया गया है कि एक घर को पूरी तरह से इंटरनेट से जोड़कर रखा गया है। इसमें इमेज प्रोसेसिंग और सेंसर की मदद ली गयी है। घर में प्रवेश के लिए मुख्य गेट पर हाथ रखते व लॉक को छूते ही सेंसर काम करना शुरू कर देगा। लॉक को छूते ही फ्रिंगर प्रिंट से पता चल जाएगा कि घर के लोग हैं या फिर बाहरी। बाहरी होंगे तो ताला नहीं खुलेगा।

 

ताला तोड़ने की कोशिश करेंगे तो अलार्म बजेगा, जिसकी आवाज काफी दूर तक सुनायी देगी। वहीं मोबाइल पर लगातार मैसेज और रिंग जाती रहेगी। इसी तरह घर की अलमारी, लॉकर और दरवाजा भी काम करेगा। छात्र सौरभ कुमार और दिव्यांशु ने बताया कि अब घर में लोगों की संख्या कम हुई है। ऐसे में घर की सुरक्षा पर ध्यान देना लोगों की पहली प्राथमिकता बनी है। ऐसे में घर के सिस्टम को ऑटोमेटिक लॉक से जोड़ा जाएगा। इसे किसी भी रूप में तोड़ना मुश्किल होगा।

बिजली, पानी और शॉर्ट सर्किट की भी सूचना 

प्रो. संदीप राज ने बताया कि इसके अलावा बिजली, पंखा, पानी और शॉट सर्किट जैसी घटनाएं होने पर भी ततापमान, तत्काल मोबाइल पर इसकी सूचना मिल जाएगी। घर में तापमान भी 24 घंटे एक सामान ही रहेगा। अत्यधिक कूलिंग और गर्म होने पर भी तापमान सामान्य रहेगा। मोटर फूल होने पर खुद व खुद स्वीच ऑफ हो जाएगा और इसकी सूचना घर के मालिक को मिल जाएगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.