बेगूसराय के परीक्षा केंद्र से भी बाहर आया था बीएसएससी का पेपर, अकाउंटेंट गिरफ्तार

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार कर्मचारी चयन आयोग (बीएसएससी) की प्रारंभिक परीक्षा का प्रश्नपत्र मोतिहारी के अलावा बेगूसराय के डुमरी के विकास विद्यालय से भी बाहर आया था। विकास विद्यालय के अकाउंटेंट रोशन कुमार ने 23 दिसंबर की पहली पाली की परीक्षा के प्रश्न पत्र की तस्वीर खींचकर इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित कर दी थी।

प्रश्नपत्र की कोडिंग से पता चला कि यह बेगूसराय के एक परीक्षा केंद्र का प्रश्नपत्र है। मामले की जांच कर रही आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) ने इस मामले में अकाउंटेंट रोशन को गिरफ्तार कर लिया है। बीएसएससी 23 दिसंबर की पहली पाली की परीक्षा पहले ही रद कर चुका है।

अभ्यर्थियों ने ही उपलब्ध कराया था प्रसारित प्रश्न पत्र

 

बीएसएससी अभ्यर्थियों ने कई परीक्षा केंद्र से प्रश्न पत्र की तस्वीर इंटरनेट मीडिया पर वायरल होने का दावा किया था। इसके बाद दावा करने वाले अभ्यर्थियों से वायरल प्रश्नपत्र की तस्वीर उपलब्ध कराने को कहा गया था। इसके बाद अभ्यर्थियों ने आर्थिक अपराध इकाई को वायरल प्रश्न पत्र की तस्वीर उपलब्ध कराई, जब उसकी तकनीकी जांच की गई तो पता चला कि वह बेगूसराय के विकास विद्यालय के परीक्षा केंद्र का प्रश्न पत्र था। इसके बाद ईओयू की टीम बेगूसराय स्कूल पहुंची।

अनुपस्थित अभ्यर्थी का था प्रश्नपत्र, सीसीटीवी फुटेज से पकड़ा गया रोशन

 

ईओयू ने जांच में पाया कि वायरल प्रश्नपत्र जिस अभ्यर्थी को मिलना था, वह परीक्षा देने नहीं आया था। सीसीटीवी फुटेज में अकाउंटेंट रोशन खुले लिफाफे में प्रश्न पत्र ले जाता दिखाई दिया, जबकि नियम के अनुसार प्रश्न पत्र को सील करके ले जाना था। इसके बाद ईओयू ने रोशन को गिरफ्तार कर लिया।

तस्वीर लेने के बाद रोशन ने बदल दिया अपना मोबाइल

ईओयू सूत्रों के अनुसार, अकाउंटेंट रोशन ने प्रश्नपत्र की तस्वीर खींचने की बात तो स्वीकार की है, मगर उसे इंटरनेट मीडिया पर प्रसारित करने या किसी अभ्यर्थी को भेजने से इनकार किया है। हालांकि, ईओयू को उसकी बात पर यकीन नहीं है, क्योंकि रोशन ने जिस मोबाइल से तस्वीर खींची थी; उसे अगले दिन ही बदल दिया था। पुराना मोबाइल कहां है, इसके बारे में भी वह स्पष्ट जवाब नहीं दे रहा है। कभी खो जाने तो कभी बेच देने की बात कह रहा है। अभी उसके पास से नया मोबाइल बरामद हुआ है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.