भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड यानी बीसीसीआइ ने गुरुवार 16 जनवरी को भारतीय क्रिकेट टीम के सीनियर खिलाड़ियों के सालाना करार का ऐलान कर दिया है। हैरान करने वाली खबर ये है कि पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धौनी को बीसीसीआइ ने सालाना कॉन्ट्रैक्ट से बाहर कर दिया है। ऐसे में साफ है कि अब शायद धौनी की अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वापसी संभव नहीं है। 

आपको बता दें, पिछले साल भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड ने अनुभवी विकेटकीपर बल्लेबाज एमएस धौनी को ए कैटेगरी में रखा था, लेकिन इस बार धौनी बीसीसीआइ के इस सालाना रिटेनरशिप लिस्ट में शामिल नहीं है। बीसीसीआइ ए कैटेगरी में शामिल खिलाड़ियों को 5 करोड़ रुपये सालाना देती है, लेकिन अब इसमें धौनी का नाम शामिल नहीं है। अभी तक इस बारे में BCCI की ओर से कोई बयान नहीं आया है। 

जनवरी के संकेत दिए थे धौनी ने

गौरतलब है कि महेंद्र सिंह धौनी वर्ल्ड कप 2019 के सेमीफाइनल में आखिरी बार न्यूजीलैंड के खिलाफ नीली जर्सी में मैदान पर उतरे थे। इसके बाद से वे कोई भी प्रतिस्पर्धी मैच नहीं खेले हैं। धौनी ने पिछले कुछ महीने पहले एक बयान दिया था कि जनवरी के बाद पता चलेगा कि वे क्या करने वाले हैं। क्या धौनी बीसीसीआइ के इसी सालाना कॉन्ट्रैक्ट की बात कर रहे थे या फिर उन्होंने अब अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेलने का इरादा छोड़ दिया है। 

BCCI ने इस बार भी 4 कैटेगरी में बांटा है, जिसमें A+, A, B और C कैटेगरी शामिल है। बीसीसीआइ ने जो सालाना कॉन्ट्रैक्ट का ऐलान किया है उसमें सिर्फ 3 खिलाड़ी A प्लस कैटेगरी में शामिल है। बीसीसीआइ की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जो खिलाड़ी ए प्लस कैटेगरी में शामिल होगा उसे सालाना 7 करोड़ रुपये मिलेंगे, जबकि ए कैटेगरी वाले खिलाड़ी को 5 करोड़ रुपये सालाना मिलने वाले हैं।

वहीं, बीसीसीआइ की B कैटेगरी में शामिल खिलाड़ियों को सालाना कॉन्ट्रैक्ट के तौर पर 3-3 करोड़ रुपये मिलेंगे, जबकि आखिरी कैटेगरी यानी C कैटेगरी में आने वाले खिलाड़ियों को एक-एक करोड़ रुपये मिलने वाले हैं। बीसीसीआइ ने ए प्लस कैटेगरी में टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली, उप कप्तान रोहित शर्मा और तेज गेंदबाज रोहित शर्मा को रखा है, जिन्हें 7-7 करोड़ रुपये सालाना मिलने वाले हैं। 

Sources:-Dainik Jagran

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here