बाहर रहने वाले बिहार के लोगों की भी गणना होगी? सीएम नीतीश ने दिया जवाब

खबरें बिहार की जानकारी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि बाहर रहने वाले बिहार के लोगों की भी पूरी जानकारी लेकर उनकी गणना की जाएगी। गणना को लोकर एक-एक चीज की तैयारी की जा रही है। सब तरह की जानकारी हो जाएगी तो अच्छा होगा, उसका फायदा होगा। किसी की उपेक्षा नहीं होगी। सबका ध्यान रखा जाएगा।

सोमवार को जनता के दरबार में मुख्यमंत्री कार्यक्रम के बाद वे पत्रकारों से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि अगर जाति आधारित गणना हो जाएगी तो चाहे किसी धर्म, जाति, मजहब के हों, अपर कास्ट, बैकवर्ड, दलित, आदिवासी हों, सबके बारे में पूरी जानकारी मिलेगी। कोई भी किसी समुदाय के हों, उनकी आर्थिक स्थिति की जानकारी मिलेगी और उसको बेहतर करने के लिए काम किया जायेगा। एक महीने की तैयारी के बाद जाति आधारित गणना का काम शुरू हो जायेगा।

चार-पांच साल में प्रजनन दर 2 हो जाएगी

जनसंख्या नियंत्रण से संबंधित सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि सिर्फ नियम और कानून बना देने से कुछ नहीं होता है। काम ऐसा हो कि सभी लोग उसे स्वभावत: करने लगें। चीन का ही पता कर लीजिए। हम चीन गए थे तो वहां भी इसके संबंध में अनुभव मिला था। सबको जागरूक कीजिए। तभी फायदा होगा। लड़की जब पढ़ लेगी तो सब ठीक होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2012-13 में अध्ययन कराया गया तो बात सामने आई कि पति-पत्नी में अगर पत्नी मैट्रिक पास है, तब प्रजनन दर देश और अपने यहां की भी दो थी। इंटर पास पत्नी के मामले में देश की प्रजनन दर से भी थोड़ी कम हमलोगों के यहां थी। उसी समय लड़कियों को और शिक्षित करने का काम शुरू कराया। उसी का नतीजा है कि लड़कियां पढ़ने लगी हैं और अब प्रजनन दर राज्य में घटकर 4.3 से 3 पर पहुंच गयी है। चार-पांच वर्षों में प्रजनन दर दो पर पहुंच जाएगी। भूदान आंदोलन के समय दान में दी गई जमीन का आंकड़ा उपलब्ध नहीं होने के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि इसको लेकर एक कमेटी बनाई गई है, जिसपर काम किया जा रहा है।

संपूर्ण क्रांति की स्वर्ण जयंती पर भव्य समारोह

मुख्यमंत्री ने कहा कि संपूर्ण क्रांति की स्वर्ण जयंती (50वें वर्ष) पर भव्य समारोह होगा। पांच जून को ही संपूर्ण क्रांति दिवस के साथ-साथ पर्यावरण दिवस भी मनाते हैं। हमलोग इन सब चीजों के प्रति संकल्पित हैं। मुख्यमंत्री ने एक सवाल पर कहा कि लोगों की सुविधाओं का हमलोग शुरू से लगातार ख्याल रख रहे हैं। अस्पतालों की संख्या काफी बढ़ायी गयी है। काफी तादाद में डक्टरों की बहाली की हुई है। अब सरकारी अस्पतालों में काफी संख्या में मरीजों का इलाज हो रहा है। सरकारी अस्पतालों में दवा का भी प्रबंध किया गया है।

मांझी की नाराजगी पर कहा, ऐसी बात नहीं

पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी की एनडीए से नाराजगी के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि हमको तो ऐसा नहीं लगता है। ऐसी कोई बात नहीं है। वे एनडीए के हिस्सा हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.