बाढ़ से खराब हुई फसल, मुआवजे के लिए अब 25 नवंबर तक आवेदन कर सकेंगे अन्नदाता

प्रेरणादायक

बाढ़ से फसल को हुई क्षति के मुआवजे के लिए किसान अब 25 नवंबर तक आवेदन कर सकते हैं। पहले आवेदन की अंतिम तारीख 20 नवंबर थी। अबतक आठ लाख आवेदन कर चुके हैं। बावजूद काफी किसान अभी आवेदन नहीं कर सके हैं। लिहाजा सरकार ने समय बढ़ा दिया है।

खरीफ 2021 में बाढ़-अतिवृष्टि से जिनकी फसलों को नुकसान हुआ या जल जमाव के कारण जिन किसान की जमीन परती रह गयी उनको कृषि इनपुट अनुदान योजना का लाभ दिया जाना है। किसानों से पांच नवंबर से आवेदन मांगे गये थे। अंतिम तारीख 20 नवंबर तय की गयी थी।

 

15 दिन का मौका मिलने के बाद भी हजारों किसान अभी तक आवेदन नहीं कर पाये हैं। कटनी-बुवाई में किसान की व्यस्तता और छठ पर्व को ध्यान में रखते हुए सरकार ने पांच दिन का अतिरिक्त मौका दिया है। अब किसान 25 नवंबर तक आवेदन कर सकेंगे। बाढ़ के कारण 30 जिलों के 265 प्रखंडों की 3229 पंचायतों में फसल क्षति हुई है।

17 जिलों के 149 प्रखंडों की 2131 पंचायतों में जल जमाव के कारण जमीन परती रह गयी। वर्षाश्रित (असिंचित) फसल क्षेत्र के लिए 6,800 रुपये प्रति हेक्टेयर, सिंचित क्षेत्र के लिए 13,500 रुपये तथा शाश्वत फसल (गन्ना सहित) के लिए 18,000 रूपये प्रति हेक्टेयर का मुआवजा दिया जायेगा। परती भूमि के लिए भी 6,800 रुपये प्रति हेक्टेयर अनुदान मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *