नक्सलियों के खिलाफ जंग में कोबरा कमांडो ने खोए अपने पैर..फिर पति के लिए पत्नी ने पहनी वर्दी

कही-सुनी

पत्नी के साथ व्हीलचेयर में बैठा युवक CRPF कोबरा 208 बटालियन का जाबांज कमांडो बी राम दास है। 20 नवंबर 2017 को छत्तीसगढ़ के धुर नक्सल प्रभावित सुकमा जिले के किस्टाराम थाने के अंतगर्त नक्सल विरोधी ऑपरेशन के दौरान आईईडी की चपेट में वे आ गए थे। आईइडी ब्लास्ट में जवान ने अपने दोनों पैर खो दिए।

राजधानी रायपुर के अस्पताल में लगभग 43 दिन जिंदगी और मौत के बीच झूलते रहे। जब आंख खुली तो दोनों पैर कट चुके थे। देश के लिए लडऩे का जज्बा अभी बाकी था। ऐसे में पत्नी रेणुका ने फौजी पति का खोया हुआ आत्मविश्वास लौटाने के लिए खुद वर्दी पहनी। इस यादगार लम्हे की फोटो सोशल मीडिया में पोस्ट की।

छत्तीसगढ़ में नक्सल ऑपरेशन के दौरान पैर गंवाने के बाद भी कोबरा कमांडो बी रामदास ने ड्यूटी नहीं छोड़ी। अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद वे फिलहाल बालाघाट सीआरपीएफ मुख्यालय में सेवा दे रहे हैं। पत्रिका से बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि आईईडी ब्लास्ट में सिर्फ पैर गए हैं पर दिल आज भी भारत माता के लिए धड़कता है। जब तक इस शरीर में जान रहेगा खून का एक-एक कतरा देश के नाम रहेगा।

आईईडी ब्लास्ट में पैर गंवाने के बाद रामदास पूरी तरह टूट गए थे। उन्होंने बताया कि पत्नी रेणुका के सपोर्ट और भरोसे से वे दोबारा खड़े होने की हिम्मत जुटा पाए। पेशे से शिक्षिका रेणुका बताती है कि कमांडो पति को इस हालत में देखकर एक पल के लिए तो वे हार ही चुकी थीं। लगा दुनिया खत्म हो गई। पति का मनोबल बढ़ाने के लिए उन्होंने कमांडो की वर्दी पहनी। ताकि पति दोबारा उस वर्दी को पहनने के लिए पूरी तरह तैयार हो जाए। रेणुका कहती है, फौजी की पत्नी बनने का सौभाग्य नसीब वालों को मिलता है। उसे अपने कमांडो पति पर गर्व है।

Sources:-Live News

Leave a Reply

Your email address will not be published.