अयोध्या से आएगी श्रीराम की बारात, दुल्हन की तरह सज रहा पुनौराधाम और जनकपुर

आस्था खबरें बिहार की

प्रभुश्री राम की बारात के आगमन को लेकर सीतामढ़ी एवं जनकपुर सजने लगा है। दोनों जगहों पर तैयारी तेज हो गयी है। नेपाल सरकार ने जनकपुर को दुल्हन की तरह सजाने के लिए तैयारी तेज कर दी है। सीतामढ़ी में शहर सहित पुनौराधाम में विशेष सफाई अभियान चलाया जा रहा है।

प्रत्येक वर्ष हिन्दी माह के अग्रहण शुक्ल पक्ष पंचमी को सीता-राम विवाह का उत्सव विवाह पंचमी मनाया जाता है। इस उपलक्ष्य पर प्रभुश्री राम की नगरी अयोध्या से राम-सीता विवाह में बारात पहुंचती है। आगामी आठ दिसंबर 2021 को राम-सीता विवाह का उत्सव होगा। जनकपुर, सीतामढ़ी व पुनौराधाम मंदिर में उत्सव देखकर लोग गदगद होते हैं।

 

दिल्ली से श्री सीताराम विवाह तीर्थ यात्रा के रूप में निकलेगी बारात 

 

पुनौराधाम में रविवार को मंदिर प्रांगण में राम बारात के आगमन की तैयारी को लेकर बैठक की गई। इसकी अध्यक्षता जिसकी अध्यक्षता महंत कौशल किशोर दास ने की। वक्ताओं ने बताया कि इस वर्ष इस बार प्रभु श्री राम की बारात श्री सीताराम विवाह बारात तीर्थ यात्रा श्रीराम सांस्कृतिक शोध संस्थान भारत के बैनर तले श्रीराम वन गमन शोधकर्ता डॉ. श्रीराम अवतार शर्मा के नेतृत्व में दिल्ली से श्रीसीताराम विवाह तीर्थ यात्रा के रूप में निकलेगी। 28 नवंबर 2021 को दिल्ली से प्रस्थान कर अयोध्या, पटना, दरभंगा, बिसौल, मटिहानी, जनकपुर व सीतामढ़ी सहित प्रभुश्रीराम व जगत जननी माता जानकी से जुड़े 10 स्थलों का दर्शन कर बारात 11 दिसबंर को पुन: अयोध्या पहुंचेगी।

इसके बाद पुन: तीर्थयात्रा 12 दिसबंर को दिल्ली वापस होगी। बैठक में 51 सदस्यीय स्वागत टीम का गठन किया गया। इसमें हरिभूषण ठाकुर, सुखदेव दास व किशोरी शरण मधुकर मुठिया बाबा को स्वागतकर्ता बनाया गया। माधव चौधरी ने कहा कि माता सीता आदि शक्ति हैं। जगत जननी जानकी जन्म स्थली पर सीताराम विवाह बारात का स्वागत ऐतिहासिक होता है। मौके पर दिनेश चन्द्र द्विवेदी, रामप्रमोद मिश्रा, धनुषधारी सिंह, शंभु सिंह, अखिलेन्द्र सिंह आदि मौजूद थे। वक्ताओं ने कहा तीर्थयात्रा आठ दिसंबर को जनकपुर पहुंचेगी। नौ दिसंबर को सीतामढ़ी पहुंचेगी। जहां सैलानी माता से जुड़े स्थली का दर्शन करेंगे।

 

देश-विदेश से लोग आते भगवान की शादी देखने

 

सीताराम विवाह उत्सव विवाह पंचमी ऐतिहासिक होता है। इस अवसर पर विराट मेला का आयोजन किया जाता है। देश-विदेश से लोग आकर भगवान की शादी देखकर गदगद होते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *