ayodhya diwali

अयोध्या में ऐतिहासिक दिवाली, सरयू तट पर 1.87 लाख दीये जलाकर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड, हेलीकॉप्टर से आई राम की सवारी

आस्था

सरयू के तट पर बसा अयोध्या दुल्हन की तरह सज गया है। दिवाली इस बार अयोध्यावासियों के लिए बेहद खास होने जा रही है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में अयोध्या ‘त्रेता युग’ जैसी दिवाली का गवाह बनेगा। योगी की इस दिवाली के राजनीतिक मायने भी हैं। आइए नजर डालते हैं कि इस भव्य आयोजन की 10 बड़ी बातों पर….

घाटों पर पर टिमटिमाएंगे तारे, बनेगा रेकॉर्ड

छोटी दिवाली की शाम अयोध्या के घाट दूर से आकाश गंगा की तरह टिमटिमाते नजर आएंगे। वजह, बुधवार शाम 6 से 7 बजे तक सरयू नदी पर स्थित राम की पैड़ी में 1,71,000 दीप जलाए जाएंगे जो विश्व रेकॉर्ड होगा। साथ ही अन्य सभी घाटों पर दीप प्रज्ज्वलित होंगे। ये दूर से देखने पर आकाश में बिखरे लाखों तारों की तरह नजर आएगा।

नया घाट पर शाम 7:15 से 7:45 तक लेजर शो से रामकथा का प्रदर्शन होगा। रात्रि में 8 से 9:30 बजे तक रामलीला का मंचन होगा। अयोध्या को दीपों से सजाने के अलावा यूपी सरकार पूरे शहर को बिजली की झालरों, बल्बों, लेजर शो आदि के जरिए जगमग करने की तैयारी कर रही है।

ayodhya diwali

‘त्रेता युग’ जैसी दिवाली

‘त्रेता युग’ की इस खास दिवाली में ‘पुष्पक विमान’ भी होगा। राम और सीता हेलिकॉप्टर से आएंगे। साथ ही राम के राज्याभिषेक के दौरान रथ, घुड़सवार और सैनिक होंगे। कहा तो यह भी जा रहा है कि इस यात्रा में भालू-बंदर भी होंगे। वहीं बुधवार दोपहर से रामभक्त भालू और बंदर समेत तरह-तरह की वेशभूषा में नजर आने लगे थे। शोभायात्रा के दौरान हेलिकॉप्टर से आम लोगों फूलों की वर्षा की जाएगी। इसका मकसद यह है कि आम लोगों को यह अहसास हो कि वह सचमुच त्रेता युग की दिवाली का आनंद ले रहे हैं।

पहली बार सजी अयोध्या

राम की नगरी कहे जाने वाले अयोध्या में में यह पहला मौका है, जब रोशनी के पर्व पर दीपावली को मनाने के लिए पूरा सरकारी अमला इस ऐतिहासिक शहर में जुटा है। माना जा रहा है कि भगवान राम की शोभा यात्रा की अगवानी खुद सीएम योगी आदित्यनाथ करेंगे। इस दौरान सूबे के राज्यपाल राम नाइक, योगी कैबिनेट के बड़े मंत्रियों के अलावा केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा और अन्य मंत्रियों के साथ में रहने की उम्मीद है। इस भव्य आयोजन का रोमांच रामलला की नगरी में साफ दिख रहा है।

ayodhya diwali

राम बरात में दिख रहा त्रेतायुग

भगवान राम के स्वागत के लिए अयोध्या में राम बरात निकाली जा रही है। इसमें रामायण के दृश्य दिखाने के लिए 11 झांकियां निकाली जा रही है। इस बारात में 22 राज्यों और यूपी के तीनों क्षेत्रों के कलाकार शामिल होंगे। यह बारात राम कथा पार्क में जाकर समाप्त होगी जहां ‘भगवान राम और माता सीता’ जनता के समक्ष आएंगे।

 

विकास को लगेंगे पंख, बदलेगी पहचान

इस भव्य आयोजन के साथ सरकार ने ब्रैंड अयोध्या की तरफ कदम बढ़ा दिए हैं। अयोध्या के पौराणिक स्वरूप को वापस लाने के लिए 133 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं की आधारशिला सीएम योगी रखेंगे।

यह धन केंद्र सरकार ने स्वदेश दर्शन योजना के तहत अयोध्या को दिया है। माना जा रहा है कि इस धन के तहत अयोध्या के घाटों और मंदिरों को संवारा जाएगा।

ayodhya diwali

अयोध्या के रास्ते चित्रकूट तक का सफर

इस कार्यक्रम के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ एक और आध्यात्मिक नगरी चित्रकूट जाएंगे, जहां राम ने अपने वनवास के 14 सालों में से 12 वर्ष गुजारे थे। चित्रकूट में भी वह कई विकास परियोजनाओं का ऐलान करेंगे।

इसके जरिए बीजेपी की रणनीति अयोध्या से लेकर चित्रकूट तक के बड़े हिस्से को साधने की है। फोकस भले ही अयोध्या पर होगा, लेकिन चित्रकूट दौरे के जरिए योगी आदित्यनाथ प्रस्तावित रामायण सर्किट को आगे बढ़ाने का प्रयास करेंगे।

राजनीतिक निहितार्थ

सीएम योगी आदित्यनाथ छोटी दिवाली के मौके पर अयोध्या में भव्य दिवाली मना रहे हैं। इस आयोजन को सिर्फ दिवाली आयोजन ही नहीं कहा जा सकता, बल्कि यह एक तरह से बीजेपी के लिए 2019 के आम चुनावों की तैयारी की शुरुआत है।

सरकार का कहना है कि वह अयोध्या को टूरिस्ट डेस्टीनेशन के तौर पर विकसित करने का प्रयास कर रही है, लेकिन राजनीतिक गलियारों में इसके मायने निकाले जा रहे हैं। राजनीतिक गलियारों में अयोध्या पर बीजेपी के फोकस के मायने निकाले जा रहे हैं। पहले भी अयोध्या के चलते बीजेपी को बड़ी राजनीतिक बढ़त मिल चुकी है।

ayodhya diwali

बढ़ेगा धार्मिक पर्यटन, मिलेगा रोजगार

अयोध्या में दिवाली को भव्य बनाकर सरकार की कोशिश धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने की है। इस आयोजन से न केवल देसी, विदेशी पर्यटकों को आकर्षित किया जा सकेगा। इससे स्थानीय लोगों को रोजागार मिलेगा। इसके लक्षण अभी से दिखने शुरू हो गए हैं।

फैजाबाद के बजाजा में रहने वाले रामतीरथ बताते हैं कि इस तरह का आयोजन अयोध्या में पहले कभी नहीं हुआ। लग रहा जैसे यह पहली दीपावली है, जिसे अयोध्या मनाने को तैयार है। व्यापारी नंद कुमार मोदनवाल ने बताया कि बीते वर्षों की तुलना में इस बार 30 से 40 गुना तक व्यापार बढ़ा है।

अयोध्या में स्थापित होगी भगवान राम की विशाल मूर्ति

योगी सरकार ने सरयू नदी के तट पर राम की विशाल मूर्ति स्थापित करने की योजना बनाई है, जो स्टेच्यू ऑफ लिबर्टी से भी बड़ी होगी। अभी इसके लिए नैशनल ग्रीन ट्राइब्यूनल की मंजूरी का इंतजार है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.