एटीएम फ्रॉड मामले में मुंबई, हैदराबाद के बाद पटना का स्थान, NCRB की रिपोर्ट में खुलासा

खबरें बिहार की जानकारी

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र दिल्ली में वर्ष 2020 के दौरान एटीएम धोखाधड़ी से संबंधित 196 मामले मुंबई के विभिन्न थानों में दर्ज कराए गए। वहीं, हैदराबाद के 96 मामले और पटना में इस तरह के 86 मामले आईटी एक्ट के तहत दर्ज किए गए। वहीं, एनसीआरबी के आंकड़ों के अनुसार बिहार में एटीएम फ्रॉड के 642 मामले सामने आए हैं। इसके अलावा ऑनलाइन बैंकिंग फ्रॉड के 105 मामले और ओटीपी फ्रॉड के 8 मामले विभिन्न थानों में दर्ज किए गए। राज्य में अन्य आर्थिक अपराध के 46 और धोखाधड़ी के 62 मामले भी दर्ज किए गए हैं।

 

बीते साल के मुकाबले राज्य में आर्थिक अपराध के अपराध के 1264 मामले दर्ज किए गए थे। वहीं वर्ष 2019 में अपराध की संख्या बढ़कर 1535 हो गई थी। बाद में 2020 में ग्राफ गिरकर तीन सालों में न्यूनतम स्तर 1017 पर पहुंच गया है।

 

ग्राफ में कमी आयी है। वर्ष 2018 में अपराध के 1264 मामले दर्ज किए गए थे। वहीं वर्ष 2019 में अपराध की संख्या बढ़कर 1535 हो गई थी। बाद में 2020 में ग्राफ गिरकर तीन सालों में न्यूनतम स्तर 1017 पर पहुंच गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *