ashok-convention-hall-new-bihar-museum

बिहार वासियों को मिले दो बड़ी सौगात- सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर में बने बापू सभागार और बिहार म्यूजियम

खबरें बिहार की

राज्य की जनता को राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर सोमवार को दो सौगातें मिलेंगी। सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर में बने बापू सभागार और नवनिर्मित भव्य बिहार संग्रहालय को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जनता को समर्पित करेंगे। बापू सभागार राज्य का सबसे बड़ा सभागार होगा जहां पांच हजार लोग बैठ सकेंगे।

 

पूरी तरह वातानुकूलित इस हॉल का एक दिन का किराया है 2.5 लाख रुपए। सम्राट अशोक कन्वेंशन सेंटर चीन के बाद एशिया का सबसे बड़ा निर्माण है। स्टील फ्रेम से तैयार की गई है। ईंट-गारे का कम से कम प्रयोग हुआ है और अधिकतम भूकंपरोधी निर्माण है।

 

वहीं राजधानी में नवनिर्मित बिहार संग्रहालय में प्राचीनकाल से लेकर सन् 1764 तक की कलाकृतियां लोगों के अवलोकन के लिए रखी गईं हैं। संग्रहालय करीब 517 करोड़ (निर्माण एवं प्रदर्श सामग्री समेत) की लागत से तैयार हुआ है। संग्रहालय की सभी आठ कला दीर्घाओं को मुख्यमंत्री लोकार्पित करेंगे।

करीब 3060 कलाकृतियों के साथ ही चामर ग्राही यक्षिणी की मूर्ति बिहार म्यूजियम में रखी गयी है। विभिन्न गैलरी के लोकार्पण के बाद आम लोगों का प्रवेश मंगलवार से हो सकेगा। शाम चार बजे लोकार्पण का कार्यक्रम होगा।

बिहार संग्रहालय के प्रभारी जेपीएन सिंह ने बताया कि यहां आने वाले लोगों को पहले की तुलना में सभी चीजें नए अंदाज में देखने को मिलेंगी। बिहार संग्रहालय अब और अधिक ऐतिहासिक हो जाएगा।

 

कला दीर्घा में दिखेगी दीदारगंज यक्षिणी

संग्रहालय को आकर्षक बनाने के लिए पटना म्यूजियम से लाई गई सभी काल की महत्वपूर्ण व ऐतिहासिक पुरावशेष कला दीर्घा में प्रदर्शित की जाएंगी। पटना म्यूजियम से लाई गई विश्व प्रसिद्ध दीदारगंज यक्षिणी को भी कला दीर्घा में ही रखा गया है। इसके अलावा कला दीर्घा में अन्य महत्वपूर्ण पुरावशेष रखे गए हैं।

ashok-convention-hall-new-bihar-museum

Leave a Reply

Your email address will not be published.