आज यानी अक्षय तृतीया का दिन भारत में बहुत शुभ माना जाता है.इस दिन ज्यादातर लोग सोने और अन्य बहुमूल्य धातुओं को खरीदते हैं. पहली बार लॉकडाउन के बीच यह त्‍योहार मनाया जा रहा है.  लेकिन कोरोना वायरस महामारी के चलते इस बार ज्वैलरी दुकानें बंद हैं, नतीजन लोगों के पास केवल ऑनलाइन सोना खरीदारी का ही विकल्प है. पर सवाल ये है कि क्या लोगों को महंगी होती सोने की कीमतों और लॉकडाउन के बीच इस बार सोना खरीदना चाहिए या नहीं? 

अक्षय तृतीया इतना खास क्यों?
अक्षय तृतीया वैशाख महीने के तीसरे दिन पड़ती है. मान्यता है कि भगवान विष्णु के छठे अवतार भगवान परशुराम का इस दिन जन्म हुआ था. इसके साथ ही ये भी मान्यता है कि महर्षि वेद व्यास द्वारा सुनाने पर इसी दिन भगवान गणेश ने इसी दिन सबसे बड़े महाकाव्य महाभारत को लिखना शुरू किया था।
अक्षय तृतीया के दिन सोने की भारी बिक्री होती है. लेकिन इस बार ऐसा नहीं होगा. लॉकडाउन की वजह से स्पॉट गोल्ड का बाजार भी बंद है. इस वक्त केवल सोने का वायदा कारोबार हो रहा है. फिलहाल सोने की कीमतें काफी बढ़ गई हैं. इस साल अक्षय तृतीया का त्यौहार एक असाधारण संकट की अवधि के बीच आया है. इसका असर बिक्री पर पड़ना तय है. लॉकडाउन और अर्थव्यवस्था में ठहराव की वजह से बिक्री कम हो सकती है.  

खरीदना फायदे का सौदा
कोरोना वायरस  के कहर से फाइनेंशियल मार्केट का हाल बेहाल है. हालांकि जानकार बार-बार Gold की कीमतों के बढ़ने की तस्‍दीक कर रहे हैं. उनका तर्क है कि देश-दुनिया में जब आर्थिक संकट आया है तो निवेशकों के लिए निवेश की पहली पसंद सोना ही बना हुआ है. जानकारों के मुताबिक जून 2020 तक भारत में सोना 52,000 रुपए प्रति 10 ग्राम के स्तर को पार कर सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here