अग्निपथ ने बढ़ाई बिहार NDA में तकरार? ललन-मांझी के बयानों के बाद सुशील मोदी की नीतीश को सलाह

खबरें बिहार की जानकारी

सेना में भर्ती को लेकर केंद्र की नई योजना अग्निपथ ने बिहार में एनडीए के बीच तकरार बढ़ा दी है। गुरुवार की सुबह से शुरू हुए बवाल के बाद पहले नीतीश के मंत्री विजेंद्र यादव ने केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उसके बाद जदयू अध्यक्ष ललन सिंह और हम नेता जीतन राम मांझी ने योजना पर पुनर्विचार की मांग रख दी। इस पर भाजपा नेता पूर्व डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने नीतीश कुमार को ही सलाह दे दी। सुशील मोदी ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और कई राज्य सरकारों ने अग्निवीरों को केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल और अन्य सेवाओं में प्राथमिकता देने की घोषणा की है। ऐसी पहल बिहार सरकार को भी करनी चाहिए।

मोदी ने युवाओं से अपील की कि वे किसी के बहकावे में आकर सेना की अग्निपथ भर्ती योजना के विरुद्ध आगजनी और राष्ट्रीय सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने जैसी कार्रवाई में शामिल न हों। मोदी ने छपरा के भाजपा विधायक डॉ सीएन गुप्ता के घर पर हमला, वारसलीगंज की विधायक अरुणा देवी की गाड़ी को निशाना बनाने, नवादा के भाजपा कार्यालय में आगजनी और मधुबनी कार्यालय में तोड़फोड़ की घटनाओं की कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा कि सेना में भर्ती के इच्छुक युवाओं की आड़ में सक्रिय असामाजिक तत्वों पर प्रशासन को सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

इससे पहले बिहार सरकार में ऊर्जा मंत्री विजेंद्र यादव ने कहा कि भारत सरकार को इस मामले में बैठकर बातचीत करनी चाहिए। विजेंद्र यादव ने कहा कि अगर इस योजना का विरोध हो रहा है तो सरकार यूनियन या संगठनों से बातचीत करे।

जेडीयू अध्यक्ष ललन सिंह ने तो योजना को खतरनाक बता दिया। ट्वीट में इस स्कीम को लेकर मोदी सरकार को पुनर्विचार करने के लिए कहा। ललन सिंह ने कहा कि अग्निपथ योजना के निर्णय से बिहार सहित देशभर के नौजवानों, युवाओं एवं छात्रों के मन में असंतोष, निराशा व अंधकारमय भविष्य (बेरोजगारी) का डर स्पष्ट दिखने लगा है।

केंद्र सरकार को अग्निवीर योजना पर अविलंब पुनर्विचार करना चाहिए क्योंकि यह निर्णय देश की रक्षा व सुरक्षा से भी जुड़ा है। वहीं उपेंद्र कुशवाहा ने अग्निपथ योजना को लेकर भारत सरकार को पुनर्विचार करने के लिए कहा तो जीतनराम मांझी ने इसे तुरंत वापस लेने की मांग कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.