अगले 40 दिन अहम, मध्य जनवरी तक बढ़ सकते हैं देश में कोरोना के नए केस- सूत्र

जानकारी

विश्व भर में बढ़ रहे कोरोना के संक्रमण को देखते हुए सरकार ने देश ने में तैयारियां तेज कर दी है। देश में कोरोना वायरस के नए वैरिएंट के मामले पाए जाने के बाद स्वास्थ्य विभाग की ओर से दिशा-निर्देश भी जारी कर दिए हैं। एयरपोर्ट पर आने वाले यात्रियों की जांच की जा रही है। साथ ही कोरोना संक्रमित व्यक्तियों के नमूनों की जीनोम सीक्वेंसिंग कराए जाने के निर्देश भी जारी किए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग ने जांच से लेकर भर्ती तक के इंतजामों पर काम शुरू कर दिया है।

मध्य जनवरी तक बढ़ सकते हैं कोविड के मामले

इसी बीच अगले 40 दिन महत्वपूर्ण होने जा रहे हैं, क्योंकि जनवरी में भारत में कोविड-19 के मामले तेजी से बढ़ सकते हैं। एक अधिकारी ने कहा, “पहले, यह देखा गया है कि कोविड-19 की एक नई लहर पूर्वी एशिया में आने के लगभग 30-35 दिनों के बाद भारत में आती है। स्वास्थ्य मंत्रालय के सूत्रों ने कहा- हालांकि, संक्रमण की गंभीरता कम है। उन्होंने कहा कि अगर लहर आती भी है, तो मृत्यु और अस्पताल में भर्ती होने की दर बहुत कम होगी। सूत्रों ने कहा कि पिछले दो दिनों में बाहर से आने वाले पर किए गए 6,000 परीक्षण में से 39 अंतरराष्ट्रीय यात्रियों को COVID-19 संक्रमित पाया गया है। सूत्रों ने कहा कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया दिल्ली में हवाई अड्डे का दौरा करेंगे और वहां परीक्षण और जांच सुविधाओं का जायजा लेंगे।

सरकार ने शनिवार से प्रत्येक अंतरराष्ट्रीय उड़ान में आने वाले दो प्रतिशत यात्रियों के लिए कोरोना वायरस परीक्षण अनिवार्य कर दिया है। सूत्रों ने कहा कि चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, हांगकांग, बैंकॉक और सिंगापुर से आने वाले अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए अगले सप्ताह से एयर सुविधा फॉर्म भरना और 72 घंटे पहले आरटी-पीसीआर परीक्षण अनिवार्य किया जा सकता है। चीन और दक्षिण कोरिया सहित कुछ देशों में कोविड-19 मामलों में तेजी के बीच सरकार ने अलर्ट जारी किया है और राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को किसी भी स्थिति के लिए तैयार रहने को कहा है।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और स्वास्थ्य मंत्री मांडविया ने मामलों में ताजा उछाल से निपटने के लिए देश की तैयारियों का आकलन करने के लिए बैठकें की हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा कि कोविड-19 संक्रमण में किसी भी तेजी से निपटने के लिए मंगलवार को भारत भर में स्वास्थ्य सुविधाओं पर मॉक ड्रिल आयोजित की गई, जिसमें कहा गया कि देश को सतर्क और तैयार रहना होगा, क्योंकि दुनिया में मामले बढ़ रहे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.