कर्नाटक में BJP की हार के बाद सियासी भंवर में फंसा बिहार, अंदरखाने खिचड़ी पकने की आने लगी खुशबू!

राजनीति

पटना: कर्नाटक के क्लाइमेक्स का साइड इफेक्ट अब बिहार में भी दिखने लगा है. प्रदेश में सत्तारूढ़ दल के बीच सबकुछ ठीक नहीं दिख रहा. हालांकि इस मसले पर कोई खुलकर नहीं बोल रहा लेकिन लगता है कि अंदरखाने कुछ-न-कुछ खिचड़ी जरूर पक रही है. इस बात का सबूत रविवार को लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान के बयान से समझा जा सकता है.

रविवार को रामविलास पासवान ने इशारों – इशारों में ही सबकुछ कह दिया. रामविलास पासवान ने मीडिया को संबोधित करते हुए कहा था कि कर्नाटक में बीजेपी की हार यानी NDA की हार है. साथ ही उन्होंने बिहार में नीतीश मॉडल की तारीफ़ की और कहा कि नीतीश मॉडल की वजह से ही बिहार में सुशासन है. हालांकि उनके इस बयान पर बीजपी ने पलटवार भी किया था और कहा था कि देश में सर्वश्रेष्ठ मॉडल सिर्फ “नमो” मॉडल है. फिलहाल NDA में जारी इस रस्साकशी को देख लगता है कि भीतरखाने में “सियासी लौ” धधक रही है.

इधर, NDA में सबकुछ ठीक नहीं होने की भनक लगते ही मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल भी बीजेपी के सहयोगियों को “लॉलीपॉप” दिखाने लगी है. बिहार में नीतीश कुमार और रामविलास पासवान को उकसाने में लगी है. कर्नाटक की हार के बाद बीजेपी के सहयोगी फिर से पशोपेश में हैं कि आखिर वे कौन सा क़दम उठायें. दूसरी तरफ बीजेपी भी ताबड़तोड़ बैठकें कर रणनीति अख्तियार कर रही है.

हालांकि, इसकी शुरुआत केन्द्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने कर दी है. वे खुलकर तो नहीं बोल रहे हैं लेकिन दबी जुबां में उनका दर्द सामने आ रहा है. नीतीश की पार्टी की बात करें तो कर्नाटक के क्लाइमेक्स के बाद JDU MLC दिलीप चौधरी ने भी मोर्चा खोलते हुए स्पष्ट कहा था कि बीजेपी को धैर्य से काम लेना चाहिए था. अगर उन्हें पता था कि बहुमत नहीं है तो दावा पेश नहीं करना चाहिए था. JDU MLC दिलीप चौधरी के इस बयान का बीजेपी नेता नितिन नवीन ने भी जोरदार जवाब दिया था और कहा था कि कोई हमें मर्यादा न सिखायें. हमने क्षेत्रीय दलों का भी ख्याल रख उन्हें आगे किया है और नेता भी बनाया है.

फिलहाल सत्तारूढ दलों के बीच जारी इस बयानबाजी से ही समझा जा सकता है कि NDA के अंदर सबकुछ ठीक नहीं है. अंदरखाने बहुत कुछ पकने की खुशबू आने लगी है. हालांकि अभी कुछ कहना मुश्किल है क्योंकि ये तो भविष्य के गर्भ में है कि बिहार की सियासत आखिर किस करवट बैठने वाली है.

Source: dbn news

Leave a Reply

Your email address will not be published.