दिवाली के बाद पटना को स्मार्ट बनाने का काम होगा शुरू, कलेक्ट्रेट से बांसघाट तक बनेगा रिवरफ्रंट

खबरें बिहार की

पटना :  दीपावली के बाद पटना को स्मार्ट बनाने का काम शुरू हो जाएगा। पहले चरण में गंगा के किनारे कलेक्ट्रेट से बांसघाट डेढ़ किमी तक रिवरफ्रंट बनाया जाएगा। रिवरफ्रंट काफी हरा-भरा होगा जहां पार्क के साथ-साथ सभी नागरिक सुविधाएं होंगी। रिवरफ्रंट के लिए प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है।

रिवरफ्रंट को बनाने में कुल 26.92 करोड़ रुपए खर्च होंगे। इसके चारों ओर हरियाली, पार्क, लैंडस्केप और थ्रीडी पेंटिंग होगी। रिवरफ्रंट डेवलपमेंट गांधी मैदान इलाके का खास आकर्षण होगा। एरिया बेस्ड डेवलपमेंट के तहत गांधी मैदान और आसपास के 800 एकड़ को विकसित किया जाएगा।

पहले फेज में रिवरफ्रंट के साथ ही हेरिटेज पार्कों को विकसित करने और नागरिक सुविधाओं के विस्तार का काम भी शुरू होगा। नागरिक सुविधाओं के अंतर्गत पूरे इलाके में डीलक्स शौचालय, मूत्रलय और प्याऊ लगाए जाएंगे। वहीं इलाके को पूरी तरह से अतिक्रमणमुक्त किया जाएगा।

15 अक्टूबर से काम करने लगेगा एसपीवी : प्रमंडलीय आयुक्त सह स्मार्ट सिटी पटना प्रोजेक्ट के चेयरमैन आनंद किशोर ने बताया कि स्मार्ट सिटी के लिए एसपीवी (स्पेशल परपस वेहिकल) 15 अक्टूबर से काम करने लगेगा। इसके लिए कार्यालय का चयन लगभग पूरा कर लिया गया है। एसपीवी गठन का प्रस्ताव भी सरकार को भेज दिया गया है। कैबिनेट की मंजूरी के बाद एसपीवी का कंपनी एक्ट में रजिस्ट्रेशन कराया जाएगा। स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में जो योजनाएं बनी हैं उनकी मॉनिटरिंग से लेकर इसके गुणवत्तापूर्ण और समयबद्ध निर्माण की जिम्मेवारी पीएमसी की ही होगी।

केन्द्र से पहले ही मिल चुकी है मंजूरी : पटना के स्मार्ट सिटी प्रस्ताव को केंद्र सरकार की मंजूरी मिल चुकी है। एसपीवी का कंपनी एक्ट में रजिस्ट्रेशन होने के बाद निगम को योजनाओं के क्रियान्वयन के लिए केंद्र से राशि भी मिल जाएगी। तैयार प्रस्ताव में रिवरफ्रंट डेवलपमेंट, नागरिक सुविधा और हेरिटेज पार्कों के विस्तार को शीर्ष प्राथमिकता दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.