30 घंटे बाद बोरवेल से निकाली गई थी ‘सना’, राष्ट्रीय सम्मान दिलाने की सिफारिश करेगी RJD

खबरें बिहार की

पटना:  मौत को मात देने वाली बिहार के मुंगेर जिले की सना को 100 फीट तक बोरवेल में फंसे होने के बाद जिंदा बाहर निकाला गया. करीब 30 घंटे की मशक्कत के बाद सना को बोरवेल से बाहर निकाला गया था. 3 साल की सना के साहस के लिए उसे राष्ट्रीय सम्मान दिलाने की सिफारिश की जाएगी.

आरजेडी नेता और सांसद जय प्रकाश नारायण यादव रविवार को सना से मिलने के लिए मुंगेर पहुंचे. उन्होंने सना की जानकारी ली. सना आपने नाना-नानी के घर मुर्गीचक आवास पर रहती है. जय प्रकाश यादव ने कहा कि सना के साहसी कदम के लिए वह उसे राष्ट्रीय सम्मान दिलाने की सिफारिश करेंगे.

उन्होंने कहा कि वह लोकसभा में सना को राष्ट्रीय सम्मान दिलाने की सिफारिश करेंगे. जय प्रकाश यादव ने कहा सना 3 साल की छोटी बच्ची है लेकिन उसने मौत को भी मात दे दी. विषम परिस्थिति में भी उसने अपना धैर्य नहीं खोया और मौत की जंग लड़ती रही. इसलिए उसके इस साहस का सम्मान होना चाहिए.

आपको बता दें कि सना बोरवेल के अंदर करीब 100 फीट अंदर फंस गई थी. जिसे एनडीआरएफ और सेना की टीम ने करीब 23 घंटे की लगातार मशक्कत के बाद बाहर निकालने में सफल हुई थी. बाद में उसे इलाजे के लिए पटना भेजा गया था. जहां उसका इलाज चल रहा था.

हालांकि अब उसकी हालत स्थिर है. सना को सर में चोट लगी थी. जिसका इलाज अभी जारी है. लेकिन वह अभी खतरे से बाहर है. सना के बोरवेल में गिरने के बाद पूरा देश उसके लिए दुआ मांग रही थी.

Source: Zee News

Leave a Reply

Your email address will not be published.