पटना: गैरमान्यता प्राप्त क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार ( सीएबी ) के सचिव आदित्य वर्मा ने साफ शब्दों में कह दिया कि अगर उनके बेटे का चयन बिहार वनडे टीम में होता है तो वो अपने पद से इस्तीफा दे देंगे. सितंबर में भारत का घरेलू वनडे टूर्नामेंट विजय हजारे ट्रॉफी खेला जाएगा.

वर्मा 2013 स्पॉट फिक्सिंग मामले में मुख्य याचिकाकर्ता थे और उम्मीद है कि जब बिहार क्रिकेट टीम का गठन होगा तो उसमें उनकी भूमिका अहम होगी. उनके रास्ते में उनके बेटे लखन राजा की क्रिकेट महत्वाकांक्षा आड़े आ सकती है.

राष्ट्रीय क्रिकेट में बिहार की वापसी से संभावना है कि लखन फर्स्ट क्लास में अपने होम स्टेट से खेलें.

वर्मा ने कहा , ‘‘मुझे पता है कि अगर मेरा बेटा लखन राजा बिहार के लिए खेलता है तो यह हितों के टकराव का मुद्दा हो सकता है. जाहिर है, अगर उसे विजय हजारे ट्रॉफी के लिए चुना जाता है , तो मैं खुद को क्रिकेट प्रशासन से दूर कर लूंगा. अगर वह एक किसी दूसरे राज्य के लिए खेलता है, तो मुझे लगता है कि मैं बिहार क्रिकेट में एक अधिकारी के रूप में काम जारी रख सकता हूं. ’’

लखन बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज और पार्ट टाइम ऑफ स्पिनर है वो मुंबई में क्लब क्रिकेट खेलते हैं. उन्हें आईपीएल टीम चेन्नई सुपरकिंग्स के नेट पर गेंदबाजी करते भी देखा गया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here