अब लाभार्थियों को घर बनाने के साथ ही 95 दिन की मजदूरी का पैसा भी मिलेगा, विभाग ने बनाया नया नियम

खबरें बिहार की

मुंगेर के जमालपुर प्रखंड क्षेत्र में प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभुकों को 95 दिनों की मजदूरी का भुगतान अब मनरेगा के जरिए किया जाएगा। इसके लिए विभाग द्वारा नया नियम बनाया गया है। सभी कर्मियों को गाइडलाइन का अनुपालन करने का निर्देश प्रखंड विकास पदाधिकारी द्वारा दे दिया गया है। अधिकारियों ने कहा कि लाभुकों को आवास निर्माण करने के लिए फ‌र्स्ट किस्त में 45 हजार रुपये दिया जा रहे हैं। इसके अलावा 210 रुपये प्रति मजदूर की दर से 30 दिनों की अलग से मजदूरी का भुगतान किया जाएगा।

मजदूरी भुगतान करने के लिए मनरेगा के कार्यक्रम पदाधिकारी को मास्टर रोल आधार व अकाउंट अपडेशन करने का निर्देश दिया गया है। बगैर मास्टर रोल निकाले मजदूरी भुगतान करना संभव नहीं है। ऐसे में समय देखते हुए कार्य में तेजी लाने की जरूरत है। सरकारी प्रावधानों के अनुसार आवास निर्माण कार्य शुरू करने के पश्चात मजदूरी भुगतान करने के बाद ही दूसरी किस्त की राशि आवंटित की जानी है। इसके बाद लाभुकों को दूसरी किस्त के 45 हजार रुपये और 30 दिनों की मजदूरी दी जानी है। तीसरी किस्त में 40 हजार रुपये व 35 दिनों को मजदूरी दी जाएगी।

बीडीओ नंदकिशोर ने बताया कि लाभुकों को आवास निर्माण कार्य पूर्ण करने के लिए तीन किस्त में एक लाख 30 हजार रुपये प्रखंड एवं 19,950 रुपये मनरेगा से यानी कुल 1,49,950 रुपये दिए जाने हैं। लाभुकों को हर हाल में 90 से 95 दिनों के अंदर आवास निर्माण कार्य पूरा कर लेना है। उन्होंने बताया कि फ‌र्स्ट किस्त की भुगतान के साथ ही रोजगार सेवक मैनडेट जनरेट करना शुरू करेंगे। सभी लाभुकों के लिए अलग मास्टर रोल निकालना होगा। बीडीओ ने कहा कि अधिकारियों कर्मियों को इसको लेकर कई तरह का सुझाव दिया गया है।

उन्होंने कहा कि पूर्व के लाभुक जिन्होंने पैसा लेकर आवास पूर्ण नहीं किए हैं उनके विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की जाएगी। इधर नए लाभुकों के अकाउंट में पैसा चला गया है। एक दो-दिनों के अंदर कार्य शुरू करने के लिए नोटिस दिया जाएगा। बीडीओ ने बताया कि प्रखंड क्षेत्र में आवास योजना के लाभुकों को अब मकान निर्माण के लिए 1 लाख 30 हजार रुपये के अलावा 95 दिनों की मजदूरी भी प्रदान कराई जाएगी। यानि कुल मिलाकर लाभुकों को अब 1 लाख 49 हजार 550 रूपये प्रदान किए जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.