अब 40 साल बाद दिवाली और कार्तिक पूर्णिमा देवदीपावली पर लगेगा सूर्य और चंद्र ग्रहण

खबरें बिहार की जानकारी

कल 8 नवंबर को चंद्रग्रहण लग रहा है। यह इस साल का आखिरी ग्रहण होगा। चंद्रग्रहण को भारत के कई हिस्सों में दिखाई देने के कारण इसका ज्योतिषीय महत्व होगा। इस ग्रहण का सूतक काल 9 घंटे पहले यानी सुबह 8.30 से शुरू हो जाएगा।  मंदिरों के कपाट सुबह 8.30 से 6.19 बजे तक बंद रहेंगे। इसलिए अगर आप कार्तिक की पूजा स्नान दान और तुलसी पूजा करना चाहते हैं तो आपको  कार्तिक माह स्नान, कथाओं और यज्ञ अनुष्ठानों का समापन भोग सोमवार 8 नवम्बर प्रात 8.08 बजे से पहले करना होगा।

आपको बता दें कि इससे पहले दिवाली पर सूर्य ग्रहण लगा था और अब देव दीपावली पर चंद्र ग्रहण लग रहा है। आपको बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं हुा है जब दिवाली और देव दीपावली पर सूर्य और चंद्र ग्रहण लग रहे हों। इससे पहले भी 2012 में भी चंद्र ग्रहण और सूर्य ग्रहण दिवाली और देव दीपावी के दिन लगे थे। इसके बाद अब अब ऐसा संयोग 18 साल बाद बनेगा। 2040 में 4 नवंबर को दिवाली पर आंशिक सूर्य ग्रहण और 18 नवंबर को देव दिवाली पर पूर्ण चंद्र ग्रहण लगेगा। स्र्य ग्रहण का धार्मिक महत्व नहीं होगा, क्योंकि यह बारत में दिखाई नहीं देगा, लेकिन चंद्र ग्रहण पूर्ण होगा और यह भारत में दिखाई देगा।  चंद्रग्रहण 8 नवंबर को आंशिक चंद्रगहण दोपहर 2.39 से शाम 6.19 बजे तक तक लगेगा।  देश के अधिकतर भागों में आंशिक चंद्र ग्रहण दिखाई देगा, लेकिन  पूर्वोत्तर के राज्यो में ही पूर्ण चन्द्रग्रहण दिखाई देगा

कार्तिक पूर्णिमा व्रत प्रदोष काल व्यापिनी पूर्णिमा को 7 नवम्बर को होगा, पूर्णिमा तिथि का प्रारम्भ 7 नवंबर को संध्या 03:49 पर होगा। कार्तिक स्नान और चन्द्र ग्रहण के का तीर्थ दर्शन और स्नान ग्रहण काल में 8 नवम्बर को होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.