आस्था का महापर्वः 2 दिनों तक भूखे-प्यासे शौचालय में 40 घंटे तक यात्रा कर छठ मनाने घर आ रहे बिहारी

खबरें बिहार की जानकारी

लोक आस्था का महापर्व छठ पर घर लौट रहे प्रवासियों की रेल यात्रा दुरूह हो गई है। कई ट्रेनों के शौचालय में 40-40 घंटे तक की यात्रा कर वे घर पहुंच रहे हैं।  पूर्व मध्य रेलवे के अनुसार छठ में यात्रियों की अतिरिक्त भीड़ को देखते हुए 125 स्पेशल ट्रेनें इस जोन में चलाई जा रही हैं। बावजूद इसके लोगों की यात्रा मंगलमय नहीं हो पा रही है।

बुधवार को अहमदाबाद से बरौनी जाने वाली 19483 अहमदाबाद-बरौनी एक्सप्रेस ट्रेन मुजफ्फरपुर शाम करीब 4:20 में पहुंची। इस ट्रेन के जेनरल और स्लीपर बोगी में पैर रखने तक की जगह नहीं थी। मुजफ्फरपुर जंक्शन पर इस ट्रेन के रुकते ही प्लेटफॉर्म दो और तीन पूरी तरह भर गया। यहां पर 2000 से अधिक यात्री स्लीपर और जेनरल बोगी से उतरे।

स्लीपर से उतरे यात्री संतोष कुमार ने बताया कि वे दो लोग अहमदाबाद से चढ़े थे। ट्रेन में अहमदाबाद से ही भीड़ थी, पर सूरत आने के बाद और भीड़ बढ़ गई। अंत में उन दोनों ने शौचालय की शरण ली और 40 घंटे का सफर शौचालय में ही किया।

दो दिन भूखा रहा, दो बार ही पानी पीया ताकि बाथरूम न जाना पड़े  

यात्री आलोक और संदीप ने बताया स्लीपर का काउंटर टिकट वेटिंग रह गया। स्लीपर में पैर रखने की जगह नहीं थी, इसलिए हिम्मत कर एसी में चढ़ गया। 1000-1000 रुपये फाइन दिया और 40 घंटे से अधिक का सफर खड़े- खड़े किया। पूरी यात्रा भूखे रहा। पानी भी सिर्फ दो बार पीया कि बाथरूम न जाना पड़े। मुगलसराय से एसी-3 में चढ़ी अपूर्वा ने बताया कि एसी भी जेनरल डिब्बे की तरह बन गया था। टिकट होने के बावजूद काफी मशक्कत के बाद अपने बर्थ तक पहुंच पायी। वहां भी इतने लोग पहले से बैठे थे कि बस बैठने की जगह ही मिल पायी।

लंबी यात्रा में बाथरूम गंदा होने से परेशानी

मुजफ्फरपुर के अखाड़ाघाट में भाई के घर आ रहे एसी-3 के यात्री दिनेश मंडल अपनी पत्नी पार्वती और बेटा राजन के साथ सूरत में इस ट्रेन में चढ़े थे। उन्होंने बताया कि रेलवे विभिन्न मार्गों में स्पेशल ट्रेनें चलाई हैं, पर वह पर्याप्त नहीं है। इतनी लंबी यात्रा में बाथरूम गंदा होने से महिलाओं और बच्चों को ज्यादा परेशानी हुई।

उत्तर बिहार आती ट्रेनों में जबरदस्त भीड़

गौरतलब है कि मुजफ्फरपुर, दरभंगा, सीतामढ़ी, मोतिहारी, बेतिया, शिवहर आदि जिलों के लोग, कोलकाता, दिल्ली, मुंबई के अलावा लुधियाना, अहमदाबाद, सूरत, राजकोट, विशाखापत्तनम, भुवनेवर, दुर्ग, रायपुर, सिल्लीगुड़ी, असम, रांची, लखनऊ, अमृतसर, चंडीगढ़ यहां कश्मीर से भी विभिन्न ट्रेनों के जरिये बिहार आ रहे हैं। बुधवार को मुजफ्फरपुर आने वाली अन्य ट्रेनों जैसे सप्तक्रांति एक्सप्रेस, वैशाली एक्सप्रेस, आम्रपाली एक्सप्रेस, लिच्छवी एक्सप्रेस, बाघ एक्सप्रेस, अवध एक्सप्रेस, नई दिल्ली-सहरसा, हरिहर एक्सप्रेस आदि ट्रेनों में जबरदस्त भीड़ रही।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.