आरा जेल में चला आपरेशन क्लीन, जमीन के अंदर से मिले 35 मोबाइल; उपाधीक्षक समेत तीन निलंबित

खबरें बिहार की जानकारी

भोजपुर जिले के मंडल कारागार आरा में बंद अपराधियों द्वारा मोबाइल से गैंग का संचालन किए जाने की आई खबरों के बाद कारा प्रशासन पूरी तरह एक्शन मोड में आ गया है। इस दौरान जिलाधिकारी राजकुमार के निर्देश पर मंडल कारा में चलाए गए आपरेशन क्लीन अभियान के दौरान जमीन के अंदर खुदाई कर छिपाया गया करीब 35 मोबाइल बरामद किया गया। एक साथ काफी संख्या में मोबाइल मिलने के बाद कारा अधीक्षक संदीप कुमार ने कारा उपाधीक्षक मो सरवन इमाम खान, उच्च कक्ष पाल मों एजाज और कक्षपाल जितेंद्र कुमार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया है।

इसके अलावा जेल में बंद 15 कैदियों को दूसरे जेल में स्थानांतरित किए जाने की भी अनुशंसा मुख्यालय को कर दी गई है। गौरतलब हो कि इससे पूर्व डीएम राजकुमार और एसपी संजय कुमार सिंह के नेतृत्व में मंडल कारा में हुई छापेमारी में करीब आठ मोबाइल, पांच सिम कार्ड और चार चार्जर समेत खैनी और गांजा का पुड़िया मिला था। जिसके बाद सहायक जेलर गौतम सिंह और कक्षपाल रवि को निलंबित कर दिया गया था।

पांच फीट गड्ढे खोदकर छिपाए थे मोबाइल

इधर, कारा अधीक्षक ने शनिवार को बताया कि जिलाधिकारी के निर्देश पर मंडल कारा में 29 नवंबर से लेकर दो दिसंबर के बीच ”आपरेशन क्लीन” अभियान चलाया गया। इस दौरान जेल के वार्ड एक संख्या से सात और 14 नंबर वार्ड के पीछे बाथरूम के आसपास करीब पांच से छह फीट गड्ढे में छिपाया गया करीब 35 मोबाइल बरामद किया गया। प्रथमदृष्टया कर्तव्य में लापरवाही और संलिप्तता पाए जाने पर जेल उपाधीक्षक और दो कक्षपालों को निलंबित कर दिया गया है। पूर्व में भी सहायक जेलर समेत दो को निलंबित किया गया था। दोषियों पर प्राथमिकी की कार्रवाई की जा रही है।

कारा के कक्षपालों पर जेल के अंदर मोबाइल पहुंचाने का आरोप

इधर, कारा अधीक्षक ने बताया कि ऐसी सूचनाएं आ रही है कि कारा के कुछ कक्षपाल गिरोह बनाकर मोबाइल की सप्लाई जेल के अंदर कराते हैं। जिसकी सूचना कारा मुख्यालय को भेज दी गई है। उनके स्थानांतरण की भी अनुशंसा कर दी गई है। संदेहास्पद कक्षपालों पर निगरानी रखी जा रही है।-पिछले महीने भी मिला था आठ मोबाइल और पांच सिम कार्डइधर, जेल से अपराध का संचालन किए जाने की सूचना पर 28 नवंबर को डीएम राजकुमार और एसपी संजय कुमार सिंह के नेतृत्व में छह घंटे छापेमारी चली थी। करीब आठ मोबाइल,पांच सिम कार्ड,चार चार्जर और 15 हजार नकदी मिला था ‌। इसे लेकर 14 कैदियों के विरुद्ध प्राथमिकी भी कराई गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.