कैलाश मानसरोवर से वापस आ रहे भक्तों पर टूटा मुसीबतों का पहाड़, जान बचाने धरती पर आ गए भगवान शिव!

कही-सुनी

पटना: ऐसा लगा मानो भगवान शिव ने स्वयं धरती पर आकर मुसीबत में फंसे श्रद्धालुओं की जान बचा ली है। कैलाश मानसरोवर की पवित्र यात्रा पर गए श्रद्धालुओं में से 1430 लोग खराब मौसम की वजह से नेपाल में ही फंस गए थे। लेकिन भगवान की महिमा ही थी कि सभी इन सभी लोगों को सुरक्षित बचा लिया गया है। नेपाल में फंसे ये सभी श्रद्धालु तिब्बत से कैलाश मानसरोवर की पवित्र यात्रा कर वापस लौट रहे थे।

नेपाल स्थित भारत के दूतावास ने शनिवार को जानकारी देते हुए बताया कि नेपाल की पहाड़ियों में फंसे करीब 160 श्रद्धालुओं के जत्थे को भी सुरक्षित निकाल लिया गया है। इसके साथ ही अब वहां से सभी श्रद्धालुओं को सुरक्षित बचा लिया गया है। गौरतलब है कि कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर गए ये सभी श्रद्धालु खराब मौसम की वजह से नेपाल के पश्चिमी हिस्से की पहाड़ियों पर पिछले 5-6 दिनों से फंसे हुए थे।

भारतीय दूतावास के प्रवक्ता रोशन लेप्चा ने बताया कि ये सभी लोग हिल्सा और सिमीकोट में फंसे थे, जहां हेलीकॉप्टर की मदद से सभी को सुरक्षित बाहर निकाला गया है। सभी सुरक्षित बाहर निकाले गए श्रद्धालुओं को हेलीकॉप्टर के ज़रिए वहां से नेपालगंज और सुरखेट पहुंचा दिया गया है। इसके साथ ही दूतावास ने सभी श्रद्दालुओं के परिजनों से संपर्क साधने के लिए दो कर्मचारियों की नियुक्ति भी कर दी है, जो नेपाल में फंसे श्रद्धालुओं के परिजनों से लगातार संपर्क कर रहे हैं।

दूतावास के अधिकारी ने बताया कि नेपाल में फंसे हुए श्रद्धालुओं को बचाने के लिए चलाए गए अभियान में 74 व्यावसायिक उड़ानों का संचालन किया गया था। इसके अलावा नेपाल सेना के भी हेलीकॉप्टरों की मदद ली गई। बचाव कार्य में प्राइवेट एमआई-16 विमानों को भी काम पर लगाया गया था। इन विमानों ने करीब 142 उड़ानें भर सभी श्रद्धालुओं को बचाया।

शुक्रवार को भारतीय दूतावास के एक बयान में ये साफ कर दिया गया था कि पश्चिमी नेपास में अब कोई भी श्रद्धालु नहीं बचा है। नेपालगंज और सुरखेत पहुंचाए गए सभी भारतीय श्रद्धालुओं को वापस भारत भेजने की तैयारियों भी शुरु हो चुकी हैं।

Source: Patrika News

Leave a Reply

Your email address will not be published.