बिहार ऑपथल्मोलॉजिकल सोसाइटी की 56वीं वार्षिक कांफ्रेंस 2 से 4 नवम्बर तक राजगीर के कनवेंशन सेंटर में, जुटेंगे 400 नेत्र विशेषज्ञ

खबरें बिहार की

राजगीर जहां हर साल लगता है अंतरराष्ट्रीय कन्वेंशन। क़ाफीओ संख्या में मरीज भी यहाँ आते हैं। फ्री का इलाज मिलता है यहाँ इन्हे , फिर मिलते है अच्छे डॉक्टर्स। लोगों को यहाँ आना भी पसंद भी है , क्योकि यहाँ दुनिया भर से डॉक्टर आते रहते है। बिहार ऑपथल्मोलॉजिकल सोसाइटी की 56वीं वार्षिक कांफ्रेंस का आयोजन आगामी 2 से 4 नवम्बर तक राजगीर के अंतर्राष्ट्रीय कनवेंशन सेंटर में होगा। इसमें नामी गिरामी 400 नेत्र विशेषज्ञ जुटेंगे। आंख रोग के इलाज व अन्य मुद्दों पर चर्चा होगी। कहा कि इस कार्यक्रम में नेत्र चिकित्सा के क्षेत्र में हो रहे अनुसंधान और नई तकनीकों से संबंधित तमाम बातों पर चर्चा की जाएगी। साथ ही नए टक्नोलॅाजी पर चिकित्सक अपने अनुभवों को शेयर करेंगे। 2 व 5 नवंबर को सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होगा। इसकी नियमित तौर पर जांच करानी चाहिए।

अगर मोतियाबिंद हो गया हो तो इसका सही इलाज या ऑपरेशन कराना चाहिए। बॉसकॉन के अध्यक्ष सह नेत्र विशेषज्ञ डॉ. अरविंद कुमार सिन्हा ने शहर के आईएमए हॉल में मंगलवार को प्रेस वार्ता में बताया कि 40 वर्ष के बाद अब मोतियाबिंद रोग आम हो चुका है। इस सम्मेलन में इंडियन ऑपथाल्मोलॉजिकल सोसाइटी के अध्यक्ष डॉ. अजीत बाबू मांझी, सचिव डॉ. नम्रता शर्मा व कोषाध्यक्ष डॉ. राजेश सिन्हा होंगे। राजगीर में होने वाले कॉन्फ्रेंस में नई विधि से नेत्र रोगों के इलाज आदि अहम मुद्दों पर चर्चा होगी।

इस तीन दिवसीय कांफ्रेंस में मुख्य रूप से नई विधि से आंख की बीमारियों के ईलाज पर चर्चा की जाएगी। मौके पर डॉ. विवेकानंद भी मौजूद थे।मौके पर संरक्षक बांके बिहारी, डॉ. शिवनंदन प्रसाद, डॉ. विवेकानंद, डॉ. अजित कुमार, डॉ. अजय व अन्य मौजूद थे।आपको बता दें कि अंतरराष्ट्रीय तीर्थ स्थल पावापुरी में पिछले साल की तरह इस वर्ष भी राजकीय स्तर पर पावापुरी महोत्सव मनाये जाने को लेकर तैयारी का जायजा लेने को जिलाधिकारी डॉ त्यागराजन एस एम द्वारा स्थल का निरीक्षण किया गया । दो नवम्बर से चार तक राजगीर में लगेगा नेत्र विशेषज्ञों का जमावड़ा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *