13 सवालों के जवाब दे इस बिहारी ने जीत लिए थे 5 करोड़, आज ऐसी है उनकी लाइफ

अंतर्राष्‍ट्रीय खबरें

जीत लिए 5 करोड़ रुपए

बिहार मोतिहारी के रहने वाले सुशील कुमार कभी कम्प्यूटर ऑपरेटर के तौर पर छह हजार रुपए की नौकरी करते थे। साल 2011 में जब उन्हें टीवी रियलिटी शो ‘कौन बनेगा करोड़पति’ के बारे में पता चला तो उन्होंने इसमें पार्टिसिपेट किया और 13 सवालों के जवाब देकर 5 करोड़ रुपए जीत लिए। इन-दिनों सुशील म्यूजिक की ट्रेनिंग ले रहे हैं। साथ ही एक प्राइवेट यूनिवर्सिटी से पीएचडी कर रहे हैं।

अब इतनी बदल गई है सुशील की लाइफ…

– सुशील कुमार ने बताया कि 2011 के बाद से उनकी लाइफ में काफी चेंज आया है।

– केबीसी में पार्टिसिपेट करने से पहले वे साइकिल से ही काम या फिर बाजार आना-जाना करते थे।

– जब वे बड़ी रकम जीतकर घर पहुंचे तो उनके दोस्तों काफी कहने के बाद 2013 में स्कूटी खरीदी थी।

– आज भी सुशील इसी से कहीं आना-जाना करते हैं। उन्होंने बताया कि लाइफ में ज्यादा कुछ चेंज नहीं हुआ है।

– पुराने दोस्तों के साथ पहले जैसा ही कनेक्शन हैं। साथ ही कुछ नए दोस्त भी बने हैं।

– उन्होंने बताया कि इन-दिनों वे म्यूजिक की ट्रेनिंग ले रहे हैं। इसके अलावा वे उर्दू भी सीख रहे हैं।

5 करोड़ KBC

जीतने के एक साल बाद बनवाया था पक्का मकान

– सुशील ने बताया कि साल 2011 के पहले उनका पक्का मकान नहीं था।

– केबीसी जीतने के करीब एक साल बाद उन्होंने घर में काम लगवाया और दो मंजिला मकान बनवाया।

– उन्होंने बताया कि नीचे का पोर्शन फुल फर्निश्ड है जबकि ऊपर के फ्लोर पर अभी भी काम चल रहा है।

– एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि उन्हें या उनके फैमिली मेंबर को बंगला का शौक नहीं था।

– सभी मेंबर्स एक साथ रहते हैं उन्होंने बताया कि लाइफ स्टाइल में कुछ ज्यादा चेंज नहीं आया।

– उन्होंने बताया कि जो सोच पहले थी वो आज भी है। कभी पैसे की भूख नहीं रही।

 


अब कमाते हैं 70 हजार रुपए महीना

– सुशील कुमार से पूछने पर उन्होंने बताया कि अब उनकी आमदनी 70 हजार रुपए हैं।

– उन्होंने बताया कि दिल्ली के एक प्राइवेट कंपनी में उन्होंने चार गाड़ियां लगाईं हैं।

– इन गाड़ियों से उन्हें महीने के 70 हजार रुपए मिलते हैं, इन-दिनों ये गाड़ियां ही कमाई का जरिया है।

– इसके अलावा शो में जीते हुए रकम का कुछ हिस्सा बैंक में भी उन्होंने इन्वेस्ट किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.