शारदीय नवरात्रि रविवार, 29 सितंबर से शुरू हो रही है। सोमवार, 7 अक्टूबर को महानवमी होगी और मंगलवार, 8 अक्टूबर को दशहरा मनाया जाएगा। इस साल नवरात्रि में 6 दिन विशेष योग रहेंगे। 2 दिन अमृतसिद्धि, 2 दिन सर्वार्थ सिद्धि और 2 रवि योगों की वजह से नवरात्रि में की गई पूजा जल्दी सफल हो सकती है। 

  • सालभर में चार बार आती है नवरात्रि

एक साल चार बार नवरात्रि आती है। दो गुप्त होती हैं और दो प्रकट नवरात्रि होती हैं। माघ मास और आषाढ़ मास में गुप्त नवरात्रि आती है। चैत्र मास और आश्विन मास में प्रकट नवरात्रि रहती है। शारदीय नवरात्रि यानी आश्विन मास में आने वाली नवरात्रि का महत्व गृहस्थ साधकों के लिए काफी अधिक होता है। काफी लोग देवी मां की प्रतिमा अपने घर में विराजित करते हैं और नवरात्रि में रोज सुबह-शाम विशेष पूजा करते हैं।

  • किस दिन बनेगा कौन सा योग

ज्योतिषविद् अर्चना सरमंडल के अनुसार 30 सितंबर को अमृत सिद्धि योग रहेगा। 1 अक्टूबर को रवि योग, 2 तारीख को अमृत,  सिद्धि, 3 को सर्वार्थ सिद्धि, 4 को रवि योग, 5 को रवि योग, 6 को सर्वसिद्धि योग रहेगा।

  • किस दिन कौन सी देवी की पूजा की जाती है

पहले दिन शैलपुत्री, दूसरे दिन ब्रह्मचारिणी, तीसरे दिन चंद्रघंटा, चौथे दिन कुष्मांडा, पांचवें दिन स्कंदमाता, छठे दिन कात्यानी, सातवें दिन कालरात्रि, आठवें दिन महागौरी, नवें दिन सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है।

  • दशहरे पर रवियोग

7 अक्टूबर को महानवमी दोपहर 12.38 तक रहेगी। उसके बाद विजया दशमी (दशहरा) लग जाएगी। विजयादशमी रहेगी 8 अक्टूबर को दोपहर 2.51 तक रहेगी। विजया दशमी के दिन भी रवि योग रहेगा, इस दिन शमी वृक्ष का पूजन किया जाता है।

Sources:-Dainik bhasakar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here