मैं क्रिकेट के उन दिवानों में से एक था जो टेस्ट मैच की एक-एक गेंद को भी बड़े गौर से देखता था। लेकिन 16 नवंबर 2013 के बाद मैंने क्रिकेट देखना ही छोड़ दिया। वजह थी सचिन तेंदुलकर का सन्यास लेना। देश के सभी क्रिकेट प्रेमियों की तरह उस दिन मेरी आंखों में भी आंसू थे और मैं खुद से वादा कर चुका था कि आज के बाद क्रिकेट मैच नहीं देखूंगा। कारण बहुत स्पष्ट था, सचिन की आदत हो चुकी थी। हम सचिन को ही क्रिकेट मान चुके थे। जब से होश संभाला टीवी पर सचिन को ही देखा। भारत हारे या जीते, जब तक सचिन 22 गज पर मौजूद है तब तक भारत को हराने वाला पैदा नहीं हुआ। 16 नवंबर 2013 के बाद मेरे लिए क्रिकेट खत्म हो गया।

आज भी जब क्रिकेट देखने का मन करता है तो यू ट्यूब पर सचिन की बैटिंग देखकर शौक पूरा कर लेता हूं। 24 अप्रैल को क्रिकेट के भगवान का जन्मदिन है। इसलिए आपको सचिन के जीवन की कुछ रोचक बातों से वाकिफ करवाता हूं।

सचिन और अंजली की प्रेम कहानी बड़ी ही मजेदार है। शायद ही कोई भारतीय क्रिकेट ऐसा हो जिसकी लव स्टोरी फिल्मी हो। पहली नजर में प्यार सिर्फ फिल्मों में ही नहीं बल्कि सचिन के रियल लाइफ में हुआ था। टीम इंडिया में घुंघरैले बाल वाला एक छोटे कद का लड़का जो उस वक्त देश का वंडर बॉय बन चुका था। हर दिलों के धड़कनों पर राज करता था। ऐसे में अपने से 6 साल छोटे शख्स से प्यार करके शादी तक अंजाम लाने तक कई छोटी बड़ी घटनाएं हुई।

सन् 1990 में सचिन अपने करियर का पहला इंग्लैड दौरा करके भारत लौटे थे, एयरपोर्ट पर इस घुंघरैले बाल वाले खिलाड़ी की खूब शोर हो रहा था। यही पर अंजलि ने भी सचिन को पहली बार मुंबई के एयरपोर्ट पर देखा था। अंजलि इस वक्त डॉक्टर बन चुकी थी और अस्पताल में प्रैक्टिस करती थीं। एयरपोर्ट पर अंजलि अपनी मां को रिसीव करने आईं थी, लेकिन जब पहली बार अंजलि ने सचिन को देखा तो वो एक-दूसरे को देखते ही रह गए। क्योंकि सचिन ने इंग्लैंड में सेंचुरी लगाकर दुनियाभर में काफी लोगों को आकर्षित कर चुके थे तो उनके लिए लड़कियों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा था।

कहानी यहां और मजेदार हो जाती है जब अंजलि को पता चला कि यह देश का वहीं युवा क्रिकेटर है जिसने हाल ही में इंग्लैंड में सेंचुरी लगाई तो एयरपोर्ट पर ही सचिन के पीछे दौड़ पड़ी। अंजलि को भागते हुए देख सचिन भी शरमा गए और अपनी नजर नीचे कर कार में बैठ गए।

फिलहाल फिर सचिन ने उनसे मुलाकात की, लेकिन हंसी तो तब आई जब सचिन से मिलने के चक्कर में अंजलि अपने मां को ही रिसीव करना भूल गई थी। असल में अंजली एयपोर्ट में अपनी मां को रिसीव करने आईं थी।

5 साल तक खेली प्यार की पारी

इस पहली मुलाकात के बाद दोनों ने करीब पांच साल तक रोमांस किया, लेकिन खास बात यह रही कि किसी को भी इसकी खबर तक नहीं लगी। दोनों ने अपने रिश्तों का खुलासा किया 1994 में, जब उन्होंने न्यूजीलैंड में सगाई की। इसके कुछ महीने बाद अगले साल 1995 में दोनों ने शादी कर ली। उस समय देश में मीडिया का ज्यादा प्रभाव नहीं था इसलिए उन्हें मिलने जुलने में ज्यादा दिक्कत नहीं आई। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि इतने साल दोनों इश्क फरमाते रहे लेकिन इस दौरान उन्होंने आपस में एक साथ कोई फिल्म नहीं ‌देखी। शादी से पहले दोनों ने एक साथ पहली फिल्म देखी जिसका नाम था ‘रोजा’।

जली ने एक इंटरव्यू में बताया था कि एक बार सचिन से मुलाकात करने के लिए वह खुद को पत्रकार बताकर उनके घर पहुंच गई थीं। हालांकि सचिन की मां को शक था कि वो पत्रकार नहीं है, क्योंकि सचिन ने कभी किसी महिला पत्रकार को इंटरव्यू नहीं दिया था। ना ही कोई पत्रकार उनके घर आया था।

शर्मीले स्वभाव के सचिन तेंदुलकर अंजली से शादी की बात कहने में मां से झिझकते थे। ऐसे में उन्होंने अंजली से अपनी शादी की बात कहने को कहा। सचिन के प्यार के लिए अंजली ने ये कदम भी उठा लिया। क्योंकि वो सचिन को नहीं खोना चाहती थी। अंजली खुद अपनी शादी का रिश्ता लेकर सचिन के घर पहुंच गई और शादी की बात की।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here