कल तक वह जिस सचिन को भगवान मानता था। उसकी पूजा करता था आज उसी सचिन से वह क्रिकेट सीख रहा है। शायद उसकी प्रतिभा देख खुद क्रिकेट जगत के भगवान प्रसन्न हो उठे हैं तभी तो स्टेडियम में आकर वह उस कम उम्र वाले बच्चे पर घंटों मेहनत कर रहे हैं। सचिन को शायद पूर्ण विश्वास है कि अगर बिहार के पृथ्वी शॉ पर मेहनत की जाय तो वह अगला सचिन बन सकता है।

युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ ने जबसे वेस्टइंडीज के खिलाफ राजकोट टेस्ट मैच में शतक के साथ लंबे प्रारूप में अपने करियर का धमाकेदार आगाज किया है उनकी तुलना महानतम बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर से होने लगी है। हाल ही में ये दोनों जब मुंबई के एमएआईजी क्रिकेट क्लब मैदान पर एक साथ उतरे तो क्रिकेट फैंस और ऑर्गनाइजर्स के लिए यह बहुत बड़ा मौका बन गया। टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक इस दौरान एल्बो इंजुरी से उबरने की कोशिश में लगे पृथ्वी शॉ को सचिन तेंदुलकर ने थ्रो-डाउन्स पर अभ्यास भी कराया। सचिन ने पृथ्वी के साथ बातचीत भी की और उन्हें टिप्स देते हुए भी देखे गए।

सूत्रों की मानें तो साव बुधवार को मुंबई के एमआईजी क्रिकेट क्लब के मैदान पर सचिन तेंडुलकर के साथ प्रैक्टिस करते देखे गए। सूत्रों ने बताया कि सचिन तेंडुलकर, विनोद कांबली, प्रशांत शेट्टी और जगदीश चावन ने लगभग एक घंटा पृथ्वी को प्रैक्टिस कराया। सचिन और जगदीश ने रबर बॉल (बल्लेबाज सामान्यत: ऐसी प्रैक्टिस बारिश वाले मैच में विकेट बचाने के लिए करते हैं।) से साव को अभ्यास कराया। सचिन ने पृथ्वी को बैटिंग के कुछ टिप्स भी दिए।

उल्लेखनीय है कि एमआईजी में सचिन तेंडुलकर की ‘तेंडुलकर मिडलेक्स ग्लोबल अकादमी’ भी है। सूत्रों ने बताया कि ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए सचिन ने पृथ्वी को महत्वपूर्ण टिप्स दिए। पृथ्वी ने सोमवार और दिवाली यानी मंगलवार को भी रबर बॉल के साथ अभ्यास किया। भारतीय टीम को वेस्ट इंडीज सीरीज के बाद ऑस्ट्रेलिया जाना है, जहां पृथ्वी साव टीम इंडिया का हिस्सा होंगे। युवा साव के लिए यह दौरा महत्वपूर्ण माना जा रहा है। क्रिकेट एक्सपर्ट का मानना है कि साव की असली परीक्षा ऑस्ट्रेलिया में ही होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here