पटना: नवरात्रि महोत्सव के चलते अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा से लेकर सौराष्ट्र के पोरबंदर तक में गरबा व रास की गजब छटा देखने को मिल रही है। वडोदरा के गरबा में जहां 50000 महिला-पुरुषों ने भाग लिया, वहीं पोरबंदर के श्री महेर समाज की महिलाओं के सौ करोड़ से अधिक के गहने पहनकर गरबा करने के लिए खासी चर्चा हो रही है।

श्री महेर समाज काउंसिल ने पोरबंदर के चौपाटी मेला चौक पर गरबा का आयोजन किया है। पांचवीं नवरात्रि को महेर समाज की महिलाएं पारंपरिक परिधान चोली, धारवो व वजनदार गहने पहनकर गरबा करती हैं। गले में लटकते एक-एक किलो के सोने से बने झुमरू इनकी खास पहचान है। आठ सौ से एक किलोग्राम वजन वाले झुमरु की कीमत 25 लाख से 32 लाख रुपये होती है।

ऐसे में चौपाटी मेले में करीब महेर समाज की महिलाएं सौ करोड़ से अधिक के गहने पहरकर गरबा कर रही हैं, जिसकी अनुपम छटा देखते ही बनती है। सोशल मीडिया में आजकल इसकी खूब धूम मची है। इस दिन महिला व पुरुष अलग-अलग गरबा करते हैं, ऐसा महिलाओं के विशेष गरबा करने व उनकी सुरक्षा दोनों ही कारणों से किया जाता है।

वडोदरा में एक बार फिर एक ही स्थल पर 50 हजार महिला-पुरुषों ने गरबा कर एक रिकार्ड कायम किया है। वहीं, सूरत में शानदार एसी पांडाल में हो रहे गरबे आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं। राजकोट, जामनगर में राजपूत समाज की महिलाएं व लड़कियां हाथों में तलवार लेकर गरबा करती नजर आती हैं तो शक्ति व भक्ति के दर्शन एक साथ हो जाते हैं।

Source: Dainik Jagran

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here