पटना: बिहार में इन दिनों सियासी पारा चढा हुआ है, एनडीए और महागठबंधन दोनों में सभी राजनीतिक पार्टियां सीटों का मुद्दा सुलझाने में लगी है। बाहर से देखने और सुनने में भले लग रहा हो, कि महागठबंधन में सबकुछ ठीक चल रहा है, लेकिन उसके भीतर भी स्थिति सामान्य नहीं है। आपको बता दें बिहार महागठबंधन में दस पार्टियां हैं, जिसमें राजद, कांग्रेस, एनसीपी, सीपीआई, हम समेत कुछ और छोटी-छोटी पार्टियां हैं।

गठबंधन नहीं लठबंधन
बिहार यूपीए में सबकुछ ठीक नहीं है, टिकट के एक दावेदार ने कहा कि यूपीए के दस मुंह है, यानी ये दशानन है, देखियेगा टिकट हिस्सेदारी को लेकर आखिरी में मारा-मारी हो जाएगा।

बताया जा रहा है कि कांग्रेस 12 सीटों पर लड़ने के लिये अड़ी हुई है, तो बाकी सहयोगी दलों ने भी अपने मन की बात को बढा-चढाकर राजद सुप्रीमो को बता दिया है, जिस पर उन्होने कहा कि लगता है इ लोग ना तो मैच खेलेगा और ना खेले देगा, बल्कि खेलवे बिगाड़ देगा।

मांझी मांग रहे 5 सीट
तेजस्वी यादव को सीएम बनाने का ठेका लेने वाले जीतन राम मांझी पांच सीटों पर दावा ठोंक रहे हैं, हम के प्रवक्ता ने कहा कि जीतन राम मांझी ने लालू यादव को उन सीटों की लिस्ट दे दी है,

जहां से वो अपना दावा ठोंक रहे हैं, तो शरद गुट भी मधेपुरा, सीतामढी और जमुई सीट मांग रहे हैं। जमुई सीट से विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष उदय नारायण चौधरी उतरने को तैयार हैं, वो शरद गुट के साथ हैं। वो बागी अवतार में आकर लगातार नीतीश कुमार पर हमला कर रहे हैं।

एसपी-बीएसपी मांग रही अपना हिस्सा
वामपंथी दल सीपीआई दो सीट बेगूसराय और मधुबनी पर अपना पुश्तैनी हक जता रही है, तो सपा-बसपा के लिये भी लालू प्रसा के दिल में सॉफ्ट कॉर्नर है।

यूपी से सटे लोकसभा क्षेत्रों के दलितों पर बीएसपी की अच्छी पकड़ है, तो वो भी अपना दावा ठोंक रहे हैं। एनसीपी के तारिक अनवर कटिहार से सीटिंग सांसद हैं, तो उनका इस सीट से लड़ना तय माना जा रहा है, इसके साथ ही एनसीपी एक और सीट पर दावा ठोंकने के फिराक में हैं।

कुशवाहा को भी आमंत्रण
इसके साथ ही राजद और कांग्रेस उपेन्द्र कुशवाहा और रामविलास पासवान को भी महागठबंधन में शामिल होने के लिये बुला रहे हैं, कहा जा रहा है कि लोकसभा चुनाव से ऐन पहले रालोसपा प्रमुख पलटी मार सकते हैं, वो एनडीए छोड़ महागठबंधन में जा सकते हैं, रालोसपा का सात सीटों पर दावा है, जो एनडीए में तो मिलने से रहा, हालांकि इतनी सीटें तो उन्हें महागठबंधन में भी नहीं मिलेगी। लेकिन कहा जा रहा है कि तेजस्वी और कुशवाहा के बीच डील फाइनल है।

Source: Logical Warta

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here