बिहार के छोटे से शहर मुंगेर की बेटी बबली नायक जल्द ही हिन्दी फिल्मों के सुपर स्टार और सदी के महानायक अमिताभ बच्चन के साथ सिल्वर स्क्रीन पर दिखेगी. भोजपुरी फिल्मों और एलबमों में अपनी अदाकारी का जलबा बिखेरने के बाद बबली अब बॉलीवुड की फिल्मों में अपनी अदाकारी को तैयार हैं. निर्देशक हेमंत कुमार बच्चन की फिल्म हिंद की बेटी में वो महानायक अमिताभ बच्चन के साथ दिखेंगी.

भोजपुरी एलबम और फिल्मों से ग्लैमर की दुनिया में कदम रखने वाली बबली का अब तक का सफर संघर्षो से भरा रहा है. मुंगेर के सफियाबाद की मूल निवासी बबली अब भी जिले के हवेली खड़गपुर में किराए के मकान में रहती है. हाल में पर्दे पर आई उसकी भोजपुरी फिल्म दारू को जमकर सराहना मिली. झारखंड सरकार ने इस फिल्म को बेस्ट प्रेरक फिल्म का अवार्ड भी दिया जबकि एनसीआर में इसे सोशल आवार्ड मिला.

एसबीएन कॉलेज पाटम में स्नातक तृतीय खंड की छात्र बबली के मुताबिक वह हाल में निर्देशक राजन की फिल्म ‘शहर मसीहा नहीं’ का हिस्सा बनीं. इसमें मेरा अभिनय देख निर्देशक हेमंत कुमार बच्चन ने हिंद की बेटी फिल्म में काम करने का ऑफर दिया. उन्होंने बताया कि इस फिल्म में बिग बी अमिताभ बच्चन भी हैं. यह मेरे लिए सपना सच होने जैसा है. इस फिल्म की शुरुआती शूटिंग मुंगेर, जमुई सहित बिहार के अन्य हिस्सों में होगी.

दूसरे हिस्से में फिल्म की शूटिंग मुंबई में होगी. बबली कहती हैं कि ‘बचपन में पिताजी शराब के नशे में अक्सर मां की पिटाई करते थे जिसके बाद माता-पिता अलग हो गए इसी कारण जब दारू फिल्म का प्रस्ताव मिला तो झट से उसे स्वीकार कर लिया.

मैंने सोचा कि अगर एक भी व्यक्ति दारू फिल्म देखने के बाद शराब से तौबा कर लेता है तो मुझे लगेगा कि मेरा जीवन सफल हो गया. बबली ने कहा कि बचपन से ही नृत्य-संगीत में अभिरुचि थी. जब मैंने भोजपुरी एलबम और छोटे-छोटे फिल्म में काम करना शुरू किया तो लोग ताना मरते थे. मां और उसका घर से निकलना मुश्किल कर देते थे अब वही लोग तारीफ करने लगे हैं.

बबली की मां बताती हैं कि जब उसकी बेटी ने फिल्म में काम करने की बात कही तो उसे उसे रोका नहीं बल्कि साथ दिया. इसके लिए कई लोगों ने ताना भी मारा पर अपनी बेटी का मनोबल उसने नीचा नहीं होेने दिया.

बबली के लिए फिल्मों में आने का रास्ता हिंदी गायकी करने वाले निर्मल सक्सेना ने किया. निर्मल बताते हैं  जब उसने पहली बार बबली को देखा तो उसमे कुछ बात दिखी और तब से आज तक वह बबली को आगे बढ़ाने में जुटे हुए हैं. उसकी इस उपलब्धि पर पूरे इलाके के लोग गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं.

रिपोर्ट- अरूण कुमार शर्मा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here