अभी अभी एक बड़ी खबर सामने आ रहा है बताया जा रहा है कि बिहार के मधेपुरा सांसद पप्पू यादव की बेल बांड को खारिज कर दिया गया है। साथ ही गैर जमानती वारंट जारी कर दिया गया है। विशेष अदालत ने कलानंद झा और अजय सिंह हत्या मामले की सुनवाई करते हुए यह फैसला सुनाया।

बताते चले कि करीब 28 वर्ष पूर्व मधेपुरा के जानकीनगर थाना क्षेत्र में आनंद मोहन समर्थक दो लोगों की हत्या में तत्कालीन विधायक व मधेपुरा के वर्तमान सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव सहित 11 लोग अभियुक्त हैं।

ये मामला 7 नवंबर 1991 की है। मधेपुरा के जानकीनगर थाने में शंभू कुमार सिंह के बयान पर हत्या का FIR दर्ज करवाया गया था। दर्ज प्राथमिकी में शंभू सिंह ने कहा था कि हम लोग बनमनखी स्कूल में एक चुनावी सभा की मीटिंग कर मुरलीगंज की ओर जा रहे थे। उनके साथ आनंद मोहन सिंह और अन्य लोग भी अलग-अलग गाड़ियों में चल रहे थे।

जानकीनगर से थोड़ी दूर आगे जाने पर रास्ते में एक ट्रक को रोककर मार्ग अवरुद्ध कर दिया गया था। हम लोग जैसे ही वहां पहुंचे पहले से घात लगाया बैठे अपराधियों ने गोलियां चलाना शुरु कर दिया। इस घटना में शंभू कुमार सिंह समेत तीन लोगों को गोली लगी थी।

अपराधियों की गोली से अजय सिंह और कलानंद झा की घटना पर ही मौत हो गयी थी। लेकिन शंभू सिंह बच गए थे। बाद में शंभू ने ही पुलिस के बताया कि गोलीबारी तत्कालीन विधायक पप्पू यादव और उनके साथियों द्वारा की जा रही थी।

प्राथमिकी दर्ज होने के बाद पुलिस ने अनुसंधान के बाद इस मामले में चार्जशीट फाइल की। इसके बाद अदालत में आरोप गठन होने के बाद सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव और कुमार यादव के विरुद्ध ट्रायल शुरू हुआ।

शनिवार को ट्रायल के दौरान पूर्व सांसद आनंद मोहन सिंह ने घटना का पूरी तरह समर्थन किया है। इस मामले में 11 लोगों की गवाही हो चुकी है। इस मामले में चार लोगों की गवाही होनी अभी बाकी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here