पटना: पटना मेट्रो का संशोधित डीपीआर या कंप्रिहेंसिव मोबिलिटी प्लान-सीएमपी केंद्र को भेजने के पहले मंगलवार को नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा ने इसका पावर प्वाइंट प्रजेंटेशन देखा। विभाग की कोशिश है कि इस महीने के अंत तक इसे केंद्र सरकार को भेज दिया जाए। तय समय में इसके जाने से विभाग को उम्मीद है कि जुलाई तक इसे केंद्र से अनुमति मिल जाएगी।.

patna metro

विभागीय अधिकारियों के अनुसार मेट्रो रेल के लिए सीएमपी जरूरी है। इसमें मेट्रो रेल से संबंधित सभी दिशा-निर्देश होता है। सीएमपी को मूर्त रूप देने के पहले बीते दिनों मंत्री ने संबंधित लोगों से इस मसले पर विशेष बातचीत की थी। कार्यशाला आयोजित कर इसके सभी पहलुओं पर विमर्श किया गया। मेट्रो कॉरिडोर को दो भागों में बांटा गया है। पहले चरण में नॉर्थ-साउथ कॉरिडोर पर काम होगा।

पटना जंक्शन से बैरिया बस स्टैंड तक जाने वाली मेट्रो अशोक राजपथ, गांधी मैदान, राजेंद्रनगर टर्मिनल होते हुए पटना-गया रोड से 14.5 किलोमीटर की दूरी तय करेगा। वहीं ईस्ट-वेस्ट कॉरिडोर सगुना, दानापुर से बेली रोड होते हुए पटना जंक्शन तक होगा। इसकी दूरी 14.5 किलोमीटर की ही होगी। मंत्री ने सीएमपी पर अपनी सहमति दे दी है। उम्मीद है कि जल्द ही इसे केंद्र को भेजा दिया जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here