भारत के सबसे लोकप्रिय धरोहरों में से एक गेटवे ऑफ इंडिया वर्ष 1924 में निर्मित हुआ था और ये मुंबई, महाराष्ट्र में स्थित है. ये जगह दुनिया भर से पर्यटकों को बहुत आकर्षित करती है और देश के प्रमुख बंदरगाहों के लिए एक प्रमुख केंद्र के रूप में कार्य करती है.

गेटवे ऑफ़ इंडिया का इतिहास

इस संरचना के निर्माण में भारत सरकार द्वारा नकद निवेश लगभग 21 लाख की राशि का हुआ था और आज की स्थिति के अनुसार ये जगह कई फोटोग्राफरों, विक्रेताओं और खाद्य विक्रेताओं को व्यवसाय के लिए एक ठेका मिल गयी है. ये जगह हमेशा पर्यटकों और सामान्य भीड़ से भरी होती है.

इसकी संरचना

गेटवे ऑफ इंडिया की संरचना के निर्माण के पीछे मुख्य उद्देश्य किंग जॉर्ज पंचम और बंबई (अब मुंबई) के क्वीन मैरी की यात्रा को स्वीकार करना था, आज यह भारत के सबसे महत्वपूर्ण स्मारकों में से एक के रूप में बना हुआ है, ये ताकत, शक्ति और शांति का चित्रण है.

इतिहास

गेटवे ऑफ इंडिया दिसंबर 1911 में किंग जॉर्ज और रानी मैरी की मुंबईकी यात्रा को याद करने के उपलक्ष्य में बनाया गया था. गेटवे ऑफ इंडिया का निर्माण दिल्ली दरबार से पहले हुआ था. हालांकि किंग जॉर्ज और रानी मैरी संरचना का एक मॉडल ही देख पाए

क्योंकि इसका निर्माण तब तक शुरू नहीं किया था और इसका निर्माण असल में 1915 में शुरू हुआ. गेटवे ऑफ इंडिया की नींव 31 मार्च, 1911 को बंबई के राज्यपालसर जॉर्ज सिडेनहैम क्लार्क ने रखी थी. जॉर्ज विट्टेट ने 31 मार्च, 1914 को अंतिम डिजाइन पर मंजूरी दी थी.

गेटवे ऑफ इंडिया पीले बेसाल्ट और कंक्रीट से बनाया गया था. 1915 और 1919 के बीच अपोलो बुंदर (पोर्ट) पर काम शुरू हुआ जहां पर गेटवे ऑफ इंडिया और नए समुद्री दीवार का निर्माण किया गया. गेटवे ऑफ इंडिया की नींव का काम 1920 में पूरा किया गया था और निर्माण 1924 में समाप्त हो गया था. गेटवे ऑफ इंडिया 4 दिसंबर, 1924 को वायसराय द्वारा खोला गया.

गेटवे ऑफ इंडिया के बारे में तथ्य

गेटवे ऑफ इंडिया साल 1920 में भारत सरकार द्वारा बनाया गया था. गेटवे ऑफ इंडिया की इमारत का नक्शा एक प्रवेश द्वार यानी आगंतुकों के लिए समुद्री मार्ग से भारत आने के लिए एक प्रवेश द्वार था. गेटवे ऑफ इंडिया की नींव 31 मार्च 1911 को रखी गई थी.

आश्चर्यजनक तथ्य यह है नींव के तीन साल बाद भारत सरकार ने गेटवे ऑफ इंडिया के डिजाइन को मंजूरी दी है. डिजाइन साल 1914 में जॉर्ज विट्टेट द्वारा दिया गया था.

निर्माण की लागत राशि 21 लाख रुपये की थी जिसको भारत सरकार द्वारा दिया गया था. पीला बेसाल्ट और प्रबलित कंक्रीट सामग्री गेटवे के निर्माण में इस्तेमाल किये गए थे. केंद्रीय गुंबद का व्यास 15 मीटर है और यह जमीन के ऊपर 26 मीटर की ऊंचाई तक है.

4 दिसंबर 1924 कोवायसराय, पढ़ना के अर्ल द्वारा उद्घाटन किया गया था. गेटवे के चार बुर्ज है और इसको जटिल जाली के साथ बनाया गया था. छत्रपति शिवाजी और स्वामी विवेकानंद की प्रतिमाए गेटवे पर बाद में स्थापित की गयी थी.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here