प्रेम और समर्पण का भाव और एक दूसरे के लिए मर मिटने की भावना सिर्फ इंसानों में ही नहीं होती बल्कि पशु-पक्षियों में भी इंसानों की तरह ये भावना मौजूद होती है. जिसमें क्रोएशिया से एक ऐसा ही पक्षियों के प्यार और समर्पण का हैरान करने वाला मामला सामने आया है. जिसमें एक सारस 14 हजार किलोमीटर की लंबी की उड़ान भरकर अपनी प्रेमिका से मिलने जाता है. जो चोटिल होने कारण उड़ नहीं सकती. इनकी स्टोरी को देखने के बाद कोई भी नर सारस के अपनी मादा के प्रति प्रेम और समर्पण का भाव देखने उनके प्रेम का कायल हो जाएगा.

अंग्रेजी न्यूज वेबसाइट गल्फ न्यूज में छपी खबर के मुताबिक मामला क्रोएशिया के क्लेपेटन का है जहां एक नर सारस प्रत्येक वर्ष के मार्च महीने में दक्षिण अफ्रीका से 14 हजार किलोमीटर दूरी से उड़ान भरकर पूर्वी क्रोएशिया के एक छोटे से गांव में अपनी मादा साथी से मिलने के लिए आता है. और उसके इस प्रेम और समर्पण का ये सिलसिला पिछले 17 सालों से चल रहा है. ये नर सारस प्रत्येक वर्ष आता है और अपनी प्रेमिका मादा सारस के साथ समय बिताता है. जिसके चलते उनके बहुत से बच्चे हो चुके हैं. उनकी प्रेम कहानी के कारण सारस का ये जोड़ा पूरे क्रोएशिया में प्रसिद्ध हो चुका है. और आसपास के इलाकों से लोग इस प्रेमी जोड़े को देखने आते हैं. और उनके बारे में बाते करते हैं.

मादा सारस की देखभाल करने वाले 71 वर्षीय स्टेजेपन वोकिक ने बताया कि उन्होंने 1993 में मानेला (मादा सारस) को अपने पास रखा था जब वो उन्हें एक तालाब के किनारे घायल अवस्था में मिली थी. उसको किसी शिकारी ने गोली मारी थी जिससे घायल हो कर वो वहां गिरी और मुझे मिल गई थी. जिसके बाद उन्होंने मादा सारस का इलाज किया और अपने पास रखा लेकिन गोली से गंभीर रुप से घायल होने के बाद वो ठीक तो हो गई लेकिन उड़ने में असमर्थ हो गयी.

उन्होंने बताया वो हर मार्च के महीने में इमारत की छत पर मादा सारस मानेला के लिए एक विशालकाय घोंसला बना देते हैं जिसके बाद नर सारस अपनी प्रेमिका के पास 14 हजार किलोमीटर की लंबी यात्रा करके पहुंचता है. जहां वो अपने बच्चों को जन्म देते हैं. और उनको उड़ना और मछलियों का शिकार करना सिखाते हैं. सारस का ये जोड़ा पूरे क्रोएशिया में प्रेम के प्रतीक के रुप में जाना जाता है. और क्रोएशिया के युवा जोड़े इन सारस के प्यार की मिसाल देते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here