जहां भारत जैसे बड़े देशों में लोग आरक्षण की मांग को लेकर मरने मारने पर उतारू हो जाते है वहीं एक छोटे से देश बांग्लादेश ने सरकारी नौकरियों में से आरक्षण को खत्म कर दिया गया है।

बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना ने गुरुवार को सरकारी नौकरियों में आरक्षण को खत्म करने का ऐलान किया है।

बांग्लादेश में आरक्षण नीति के खिलाफ हजारों लोग प्रदर्शन कर रहे है इस दौरान पुलिस के साथ देश में कई जगह लोगों का टकराव भी हुआ है जिसमें सैकड़ों लोग घायल भी हुए है।

सरकार ने इसमें एक नई व्यवस्था शुरू करने का भी प्रावधान किया है अपाहिजों और अल्पसंख्यकों का सरकारी नौकरियों में प्रतिनिधित्व सुनिश्चित किया जाएगा।

विरोध प्रदर्शन के बीच प्रधानमंत्री शेख हसीना ने अपने एक बयान में कहा कि काबिल लोगों को पिछड़ते देख उनकी सरकार ने आरक्षण व्यवस्था को खत्म करने का फैसला किया है।

हसीना ने कहा कि छात्रों को अब सड़कों को खाली कर देना चाहिए और उन्हें अपने घरों को लौट जाना चाहिए। आपकों बता दे की ढाका यूनिवर्सिटी से आरक्षण व्यवस्था को लेकर आंदोलन शुरू हुआ था और ये काफी बढ़ गया था।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here