marathon patna 2017

marathon patna 2017

फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह ने जब हरी झंडी दिखाई तो पटना दौड़ पड़ा। पटना में पहली बार हो रहे हाफ मैराथन में जबरदस्त उत्साह देखने को मिला। जमशेदपुर के रहनेवाले अर्जुन टुडू 21 किलोमीटर के हाफ मैराथन में विजेता बने। उन्होंने 1 घंटे 6 मिनट और 47 सेकंड में हाफ मैराथन को जीत लिया। 42 साल के अर्जुन टुडू ने पूरे दमखम के साथ हाफ मैराथन में भागीदारी की। 21 किलोमीटर के हाफ मैराथन में बनारस के रहने वाले प्रमोद यादव दूसरे नंबर पर रहे। वही 10 किलोमीटर केटेगरी में उत्तर प्रदेश के डुमरिया के रहने वाले प्रीतम कुमार भारती विजेता बने।18 साल के प्रीतम कुमार भारती ने एक लय के साथ दौड़ते रहे। 4 किलोमीटर केटेगरी में भी धावकों की भागीदारी रही। सबसे ज्यादा धावक इसी कैटेगरी में दौड़े।

रविवार सुबह अन्य दिन के मुकाबले धुंध और ठंड अधिक थी। इसके बावजूद धावकों के साथ-साथ सड़क पर बड़ी संख्या में आम लोग भी मौजूद थे। गांधी मैदान के गेट नंबर 1 से पहले हाफ मैराथन दौड़ की शुरुआत हुई। इस हाफ मैराथन में भाग लेने के लिए पहले से ही धावक तैयार थे। सुबह 6:00 बजे इस दौर की शुरुआत हुई। इसके बाद 10 किलोमीटर और अंत में 4 किलोमीटर की दौड़ को 4 किलो मीटर वाली दौड़ की शुरुआत मिल्खा सिंह ने हरी झंडी दिखाकर की। मौके पर कमिश्नर आनंद किशोर और डीएम संजय कुमार अग्रवाल भी मौजूद थे।

उड़न सिख के नाम से मशहूर मिल्खा सिंह को देखने के लिए हर कोई बेताब था। मिल्खा सिंह ने कहा कि जमीन से उठकर मिल्खा की तरह आसमान छूना है तो अपना इरादा बना। हाथ की लकीरों से जिंदगी नहीं बनती। आजम हमारा कुछ हिस्सा है जिंदगी बनाने में। मिल्खा सिंह ने कहा कि बिहार में फुटबॉल हॉकी एथलेटिक्स का एकैडमी खोला जाए। सुबह में ठण्ड के बावजूद मिल्खा सिंह की मौजूदगी ने लोगों में उमंग भर दिया।

मिल्खा सिंह ने कहा कि यदि कोई जमीन से उठकर आसमान को छूना चाहता है तो इसके लिए इरादा बनाए। उसके अनुरूप मेहनत करे और लगातार प्रयास से सफलता जरूर मिलेगी। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मिल्खा सिंह की मिसाल आपके सामने है। पीएम की प्रशंसा करते हुए कहा कि चाय बेचने वाले की हिम्मत देखो, आज 130 करोड़ लोगों के दिल पर राज कर रहा है।

marathon patna 2017 milkha singh
मिल्खा सिंह ने लोगों में जोश भरने के लिए एक शेर पढ़ा-‘हाथ की लकीरों से जिंदगी नहीं बनती / अजम (विल पावर) हमारा कुछ हिस्सा है जिंदगी बनाने में। कहा कि बिहार में बहुत टैलेंट है। यहां फुटबॉल, हॉकी और एथलेटिक्स की अकादमियां खोली जाएं। उन्होंने कहा कि 90 साल पूरे कर चुका हूं। ख्वाहिश है कि ओलंपिक में एथलेटिक्स में इंडिया गोल्ड जीते। यह ख्वाहिश पूरी होने के बाद ही दुनिया से जाऊं तो अच्छा। मिल्खा ने कहा कि हाफ मैराथन के आयोजकों में बड़ी हिम्मत है, जो मुझे पटना ले आए।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे ने 50 साल बाद बिहार पहुंचे मिल्खा सिंह का स्वागत किया तथा बढ़ते बिहार तथा विकासशील बिहार के उत्साहवर्द्धन के लिए उनके प्रति आभार जताया। श्री पांडेय ने मिल्खा की बातों को दुहराते हुए कहा कि टारगेट प्वाइंट तक वही पहुंचता है और सफल होता है जो लगातार प्रयास तथा अभ्यास करता है। उन्होंने सफल आयोजन के लिए यशवंत गिरि को बधाई दी।

मैराथन को लेकर लोगों का उत्साह चरम पर था। पटना में पहली बार इस स्तर पर मैराथन का आयोजन हो रहा था इसलिए लोग बड़ी संख्या में धावकों का प्रोत्साहन करने पहुंचे प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए पूरे राज्य से धावक पहुंचे थे। वहीं बाहर के शहरों से भी धावक मैराथन में भाग लेने पहुंचे थे।

5.50 से 9 बजे तक नहीं चले वाहन : मैराथन के दौरान गांधी मैदान से बेली रोड हड़ताली मोड़ तक रविवार सुबह सवा तीन घंटे वाहन नहीं चले। सुबह 5 बजकर 50 मिनट से 9 बजे तक ट्रैफिक में बदलाव किया गया था। वहीं हड़ताली मोड़ से सगुना मोड़ तक एक लेन यानी सिर्फ उत्तरी लेन में वाहन चले। दक्षिण लेन पूरी तक बंद रही। हेगी। मैराथन के दौरान आपातकालीन सेवाओं से संबंधित वाहनों को जाने की अनुमति रही। मैराथन शुरू होने के 10 मिनट पहले से ट्रैफिक रोक दिया गया था। रविवार होने से ट्रैफिक में नहीं होगी दिक्कत रविवार के दिन मैराथन होने के कारण ट्रैफिक को लेकर खास दिक्कत नहीं हुई। स्कूल-कार्यालय बंद रहने से ट्रैफिक का दबाव नहीं रहा।

marathon patna 2017

तीन केटेगरी में मैराथन

हाफ मैराथन, 21 किलोमीटर | समय 6 बजे

गांधी मैदान गेट नंबर एक से शुरू। पूर्वी लेन से जेपी गोलंबर से डाकबंगला चौराहा, आयकर गोलंबर, हड़ताली मोड़, न्यू सचिवालय मोड़ से बाएं इको पार्क गेट नंबर एक से आगे इको पार्क गेट नंबर दो से दाहिने आईपीएस मेस मोड़ से बायें, राजवंशीनगर मोड़ होते हुए चिड़ियाघर गेट नंबर एक, बेली रोड ओवरब्रिज के पश्चिमी छोर तक। उसी मार्ग से एक ही लेन से हड़ताली चौक तक और हड़ताली चौक के आगे से दूसरी लेन यानी उत्तरी लेन से गांधी मैदान वापस।

10 किलोमीटर, समय 6.45 बजे

गांधी मैदान गेट नंबर एक से शुरू होकर जेपी गोलंबर, डाकबंगला चौराहा, आयकर गोलंबर , हड़ताली मोड़, न्यू सचिवालय मोड़ से बाएं इको पार्क गेट नंबर एक, इको पार्क गेट नंबर दो से दाहिने 31 नंबर पुलिस पोस्ट से जगजीवन गोलंबर तक जाएगी और यहीं से वापस उसी मार्ग से होते हुए गांधी मैदान गेट नंबर एक पर।

4 किलोमीटर, समय 7.45 बजे

गांधी मैदान गेट नंबर एक से शुरू होकर पूर्वी लेन से जेपी गोलंबर, डाकबंगला चौराहा से कोतवाली टी से वोल्टास मोड़ होते हुए आयकर गोलंबर तक और उसी मार्ग के दूसरी लेन से वापस होकर गांधी मैदान।

विनर लिस्ट-
फीमेल कैटेगरी

1. प्रतीमा टुडू
2. सुमन भारती ललिता
3. निकी रॉय

मेल कैटेगरी

1. अर्जुन टुडू
2. प्रमोद कुमार यादव
3.कुणाल कुमार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here