दो साल बाद पहुंचेंगे कांवरिया, मिलेंगी कई नई रेल सुविधाएं

खबरें बिहार की जानकारी

इस बार श्रावणी मेला में दो साल के बाद देश के अलग-अलग हिस्सों से कांवरिया सुल्तानगंज पहुंचेंगे। पिछले दो साल में श्रावणी मेला के लिहाज से रेलवे ने भागलपुर रेलखंड पर कई सुविधाएं तैयार की है। सबसे अहम है कि अब सुल्तानगंज में जल भरने के बाद देवघर जाने के लिए सीधी ट्रेन मिलेगी। सुल्तानगंज से देवघर के लिए एक डीएमयू पैसेंजर ट्रेन की सेवा दो महीने पहले ही शुरू की गई है। इसके अलावा भी कई ऐसी सुविधाएं हैं जो दो साल पहले सुल्तानगंज या भागलपुर में कांवरियों को नहीं मिलती थी।

इस बार मिथिलांचल के कांवरियों के आने-जाने के लिए दो-दो एक्सप्रेस ट्रेन की सुविधा मिलेगी। एक जयनगर-हावड़ा एक्सप्रेस और एक भागलपुर-जयनगर एक्सप्रेस। इन दोनों ट्रेनों की सेवा पहले नहीं थी। इन दोनों ट्रेनों के चलने से मिथिलांचल के समस्तीपुर, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, मधुबनी आदि जिलों के कांवरिया सीधे सुल्तानगंज पहुंच जाएंगे। उन्हें ट्रेन बदलने की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसके अलावा नेपाल से आने वाले कांवरियों को भी सुविधा होगी। नेपाल से जयनगर आने के बाद सुल्तानगंज के लिए सीधी ट्रेन मिलेगी। वापसी में भी भागलपुर से इन दोनों ट्रेनों से जाने में सहूलियत हो जाएगी। देवघर के लिए कोरोना काल के पहले अगरतला से भी एक एक्सप्रेस ट्रेन चलायी गई है। इससे पूर्वोत्तर राज्यों के कांवरियों को आने-जाने में सुविधा मिलेगी। देवघर में बाबा वैद्यनाथ को जल चढ़ाने के बाद इन इलाकों के कांवरिया सीधे वहीं से ट्रेन पकड़ सकते हैं। हालांकि इस ट्रेन की सेवा सप्ताह में एक दिन ही है लेकिन सोमवारी के दिन यह ट्रेन मिलेगी। सोमवारी के दिन कांवरियों की अधिक भीड़ होती है।

श्रावणी मेला के मद्देनजर ही सुल्तानगंज स्टेशन पर लिफ्ट की सुविधा दी जा रही है। प्लेटफार्म नंबर एक और दो-तीन पर लिफ्ट लगाने का काम शुरू हो गया है। इससे बुजुर्ग कांवरियों को काफी सहूलियत हो जाएगी। इसके अलावा भागलपुर स्टेशन पर दो-दो स्वचालित सीढ़ी लगायी गयी है। दो लिफ्ट यहां पहले से लगी थी और तीन लिफ्ट अतिरिक्त लगायी जा रही है। काफी संख्या में कांवरिया वापसी में भागलपुर स्टेशन से भी ट्रेन पकड़ते हैं। वनांचल एक्सप्रेस से आने वाले रांची, धनबाद, आसनसोल के कांवरिया यहां से सुल्तानगंज के लिए ट्रेन बदलते हैं। सुल्तानगंज स्टेशन पर एक अतिरिक्त फुट ओवरब्रिज भी बन गया है।

मालदा रेल मंडल के एडीआरएम  सुजीत कुमार ने कहा है कि दो साल से श्रावणी मेला नहीं हो रहा था। इस बार भी राज्य सरकार के निर्णय के अनुसार ही रेलवे काम करेगा। रेलवे अपनी ओर से तैयारी में जुट गया है। डिवीजन के सभी अधिकारी इसके लिए काम कर रहे हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.