Patna: बिहार में सरकारी नौकरी पाने की चाहत रखने वालों के लिए खुशखबरी है। बिहार पुलिस में सिपाही से लेकर अधिकारी तक के रिक्‍त पदों पर जल्‍द ही बहाली होगी। जरूरत के मुताबिक नए पद भी सृजित किए जाएंगे। इस पूरी प्रक्रिया में महिलाओं को तरजीह दी जाएगी। इसका ऐलान खुद प्रदेश के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने किया है। बिहार पुलिस बल में महिलाओं की संख्‍या फिलहाल 23 फीसद हो गई है। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि अगले 3-4 वर्षों में इसे 30 से 35 फीसद तक पहुंचा दिया जाएगा।

10 हजार से अधिक युवतियों के लिए खुलेगी नौकरी की राह

मुख्‍यमंत्री ने कहा कि पुलिस बल में महिलाओं को 35 फीसद आरक्षण दिया गया है। उनकी घोषणा के मुताबिक बिहार में हजारों युवतियों के लिए बिहार पुलिस में नौकरी की राह खुलेगी। 35 फीसद के अनुपात को हासिल करने के लिए बिहार में 10 हजार से अधिक महिला पुलिस कर्मियों की बहाली करनी होगी।

15 वर्ष में बिहार पुलिस में हुई 50 हजार से अधिक नियुक्तियां

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीएमपी-5 परिसर स्थित मिथिलेश स्टेडियम में बिहार पुलिस सप्ताह के समारोह में शुक्रवार को इस बाबत अपनी बात रखी थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले 15 वर्षों में 50 हजार से ज्यादा नियुक्तियां पुलिस में की गई हैं। 10 हजार से ज्यादा नियुक्तियां प्रक्रियाधीन हैं। पुलिस पदाधिकारी और कर्मियों की जरूरत होगी तो उसे भी पूरा किया जाएगा। सरकार का ध्‍यान नई नियुक्तियों के साथ ही नए पुलिसकर्मियों और अधिकारियों के समुचित प्रशिक्षण पर भी है।

वीरता के लिए इन पुलिसकर्मियों को किया सम्‍मानित

इस कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने वीरता के लिए मुजफ्फरपुर की रानी कुमारी, जमुई की अर्पिता, गौरव सिंह राठौर और मो. मुतुर्रहमान, सारण के अतुल मुकेश, दरभंगा के संतोष कुमार महतो और सुधीर कुमार का प्रशस्ति पत्र और दस हजार रुपये का चेक भेंंटकर पुरस्कृत किया। साथ ही उत्कृष्ट कार्य हेतु सीआइडी के एडीजी विनय कुमार, एडीजी (स्पेशल ब्रांच) जितेंद्र गंगवार के अलावा सेवानिवृत्त पुलिस उपाधीक्षक प्रतिमा सिन्हा, राकेश कुमार, सैयद रफत कमाल, पुलिस अवर निरीक्षक बासुकीनाथ मिश्र को भी सम्मानित किया गया।

वर्ष 1958 से मनाया जा रहा बिहार पुलिस सप्‍ताह

बिहार पुलिस सप्ताह कार्यक्रम वर्ष 1958 में पहली बार आयोजित किया गया था। उसके बाद 1981 में इसका आयोजन हुआ। वर्ष 2007 से प्रत्येक वर्ष 22 से 27 फरवरी के बीच इसका आयोजन किया जाता है। इस बार वेबकॉस्टिंग के माध्यम से 10 हजार पुलिस कर्मियों को प्रशिक्षित किया गया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री का स्वागत डीजीपी एसके सिंघल ने पुष्प गु’छ और स्मृति चिन्ह (सरदार पटेल भवन की तस्वीर) भेंट कर किया।

Source: Daily Bihar

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here