शहाबुद्दीन को पटना हाईकोर्ट ने तेजाब हत्याकांड में दिया झटका, बरकरार रहेगी उम्रकैद की सजा

खबरें बिहार की

अभी अभी एक बड़ी खबर समाने आ रही है। बताया जा रहा है कि पटना हाईकोर्ट ने तेजाब हत्याकांड में शहाबुद्दीन को रहात देने से इंकार कर दिया है। साथ ही सीवान कोर्ट द्वारा दिए गए उम्रकैद की सजा को बरकरार रखा है। जानकारी अनुसार जज केके मंडल ने साफ कहा कि हाइकोर्ट इस मामले में कोई हस्तक्षेप नहीं करेगी।

बताते चले कि 11 साल पुराने बिहार के चर्चित तेजाब हत्याकांड में सीवान के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन को उम्रकैद की सजा सुनाई गई है। बाकी चार आरोपियों को भी कोर्ट ने उम्रकैद की सजा सुनाई है। 2004 में सीवान के 2 व्यवसायियों की हत्या मामले में RJD के पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को दोषी करार दिया गया था।

सीवान की विशेष अदालत ने शहाबुद्दीन को हत्या, हत्या की नीयत से अपहरण, सबूत छिपाने और आपराधिक षड़यंत्र का दोषी करार दिया था। 16 अगस्त 2004 को जमीनी विवाद में रंगदारी नहीं देने पर सीवान के 2 व्यवसायियों का अपहरण कर लिया गया था। दोनों भाईयों को तेजाब से नहलाकर उनकी बेदर्दी से हत्या कर दी गई।

हत्याकांड के चश्मदीद मृतकों के भाई के मुताबिक पूर्व सासंद शहाबु्‌ददीन खुद उस वक्त मौजूद थे। हालांकि जेल प्रशासन का दावा था कि शहाबुद्दीन उस वक्त जेल में बंद सजा काट रहे थे। शहाबुद्दीन को आज उम्रकैद या फांसी की सजा का ऐलान किया जा सकता है। इससे पहले करीब 7 मामलों में शहाबु्‌दीदन जेल की सजा काट रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.