भारत के बड़े उद्योगपति रतन टाटा ने वेलेंटाइन डे  के ठीक एक दिन पहले सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपनी लव स्टोरी के बारे में बताते हुए कहा है कि ग्रेजुएशन के बाद लॉस एंजेलिस में काम करने के दौरान उनकी शादी लगभग हो ही गई थी. आपको बता दें कि रतन टाटा ने अपनी जिंदगी, माता-पिता के तलाक, दादी के साथ बिताए दिन, उनकी अच्‍छी सीख, कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में पढ़ाई, प्‍यार और यहां तक कि ये रिश्‍ता क्‍यों खत्‍म हो गया जैसे कई मुद्दों पर फेसबुक पेज ‘ह्यूमंस ऑफ बॉम्‍बे’ से बातचीत की.

रतन टाटा की लव स्टोरी
ह्यूमंस ऑफ बॉम्‍बे’ से तीन सीरीज वाली इस बातचीत में जाने-माने उद्योगपति और टाटा ग्रुप के चेयरमैन रहे रतन टाटा ने बताया कि आर्किटेक्‍चर में ग्रेजुएशन करने पर उनके पिता नाराज हो गए. इसीलिए रतन टाटा लॉस एंजेलिस में नौकरी करने लगे. वहां उन्‍होंने दो साल तक काम किया. उन दिनों को याद करते हुए रतन टाटा कहते हैं वो समय बहुत अच्‍छा समय था- मौसम बहुत खूबसूरत था, मेरे पास अपनी गाड़ी थी और मुझे अपनी नौकरी से प्‍यार था. लॉस एंजेलिस में रतन टाटा को प्‍यार हुआ और वो उस लड़की से शादी करने ही वाले थे.

अचानक उन्‍हें वापस भारत आना पड़ा क्‍योंकि उनकी दादी की तबीयत ठीक नहीं थी.और फिर भारत-चीन लड़ाई आ गई रतन टाटा की शादी के बीच मेंरतन टाटा को ये लगा था कि जिस महिला को वो प्‍यार करते हैं वह भी उनके साथ भारत चली जाएगी. लेकिन 1962 की भारत-चीन लड़ाई के चलते उनके माता-पिता उस लड़की के भारत आने के पक्ष में नहीं थे और इस तरह उनका रिश्‍ता टूट गया.

रतन टाटा का बचपन
अपने बचपन के बारे में रतन टाटा कहते हैं कि उनका बचपन बहुत बढ़िया बीता, लेकिन माता-पिता के अलग (तलाक लेने के बाद) होने से उन्हें और उनके भाई को कई परेशानियों का सामना करना पड़ा. बातचीत के दौरान रतन टाटा ने अपनी दादी को भी याद करते हुए बताया कि, मुझे आज भी याद है कि किस तरह द्वितीय विश्‍व युद्ध के बाद वो मुझे और मेरे भाई को गर्मियों की छुट्टियों के लिए लंदन लेकर चली गई थीं. वास्‍तव में वहीं उन्‍होंने हमारे जीवन के मूल्यों के बारे में समझाया. वह हमें बताती थीं कि ऐसा मत कहो या इस बारे में शांत रहो और इस तरह हमारे दिमाग में ये बात डाल दी गई कि प्रतिष्‍ठा सबसे ऊपर है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here