विश्व प्रसिद्द बाबा बैद्यनाथ मंदिर के सरदार पंडा का हुआ हार्ट अटैक से निधन

कही-सुनी

देवघर के विश्व प्रसिद्द बाबा बैद्यनाथ मंदिर के सरदार पंडा का हृदय गति रुकने से निधन हो गया। निधन की खबर से पूरे क्षेत्र में शोक की लहर दौड़ गई है।

पिछले साल ही 46 वर्षों की लंबी कानूनी लड़ाई के बाद कोर्ट ने उनको सरदार पंडा को वास्तविक उत्तराधिकारी घोषित किया गया था।

पिछले कुछ समय से सरदार पंडा का स्वास्थ खराब चल रहा था। मंगलवार सुबह सात 7 बजे उन्होंने अंतिम सांस ली। रोजाना की तरह सरदार पंडा सुबह नित्यककर्म के बाद जप में लीन थे, इसी दौरान उनकी हृदय गति रुक गई।

सरदार पंडा का वास्तविक नाम अजितानंद ओझा है। उन्होंने द्वादश ज्योतिर्लिंगों में सर्वश्रेष्ठ कामनालिंग बाबा वैद्यनाथ मंदिर में सरदार पंडा की गद्दी 2017 में संभाली थी।

न्यायालय के निर्णय और मुख्यमंत्री रघुवर दास के हस्तक्षेप के बाद मंदिर में करीब 46 सालों बाद दुवारा से सरदार पंडा प्रथा बहाल हुई थी।

दरअसल 1970 में तत्कालीन सरदार पंडा भवप्रीतानंद ओझा के देहांत के बाद से ही उनके वास्तविक उत्तराधिकारी को लेकर विवाद शुरू हो गया था। तब से सरदार पंडा की नियुक्ति नहीं हुई थी।

सरदार पंडा अजितानंद ओझा के निधन के बाद उनके बड़े बेटे गुलाबनंद ओझा को सरदार पंडा बनाया गया है। गुलाबनंद को सरदार पंडा बनाने का फैसला सर्वसम्मित से लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.